ज़ीनिया कैसे उगाएं – Zinnia Care in Hindi

ज़ीनिया बहुत दृढ़ और परिस्थिति के अनुसार ढलने वाला पौधा है। हमारे बगीचे को रंगीन बनाने का यह सबसे अच्छा तरीका है। ज़ीनिया के फूल कई प्रकारों और किस्मों में आते हैं। वे पूरी धूप में नम, उपजाऊ, अच्छी जल निकासी वाली मिट्टी में सबसे अच्छी तरह से बढ़ते हैं। सामान्य तौर पर, इस पौधे को 23 °C से 29 °C (74 से 84 डिग्री °F) तापमान पसंद है। उन्हें लम्बा और गर्म ग्रीष्मकाल पसंद है, और उन्हें अचानक मौसम में परिवर्तन और ठंडी हवा का झोंका पसंद नहीं है। मिट्टी का पीएच 5.5 से 7.5 के बीच होगा। अगर आप मिट्टी में खाद डालते हैं, तो फूल तेजी से बढ़ेंगे। आप मिट्टी का विश्लेषण करने के बाद किसी लाइसेंस प्राप्त कृषि विज्ञानी से सलाह ले सकते हैं।

बीज से ज़ीनिया कैसे उगाएं

व्यावसायिक प्रयोग के लिए, ज़ीनिया को ज्यादातर बीजों से उगाया जाता है (यौन प्रसार)। आमतौर पर, बीज से ज़ीनिया के पौधे उगाना बहुत आसान होता है। हम सतह पर ज़ीनिया के बीज बो सकते हैं और इसके बाद मिट्टी की एक पतली परत बिछा सकते हैं, ताकि बीज सीधे सूरज की रोशनी के संपर्क में न आएं। मिट्टी पर्याप्त गर्म होने पर और पाले की कोई सम्भावना न होने पर हम उन्हें बो सकते हैं। कई मामलों में, आपको केवल 10 से 14 दिनों में ही ज़ीनिया के छोटे-छोटे पौधे दिखाई देने लगेंगे (किस्म के आधार पर), इसके बस कुछ सप्ताह बाद फूल खिलना शुरू हो जायेंगे। हम अंतिम तुषार से लगभग 4 – 6 सप्ताह पहले बीजारोपण करके ज़ीनिया को घर के अंदर भी उगा सकते हैं।

ज़ीनिया के पौधे कैसे लगाएं

अगर आप पौधों को बीज की ट्रे से निकालकर रोपना चाहते हैं तो इस बात का ध्यान रखें कि मिट्टी का तापमान 21-26 °C (70-80 °F) के साथ, पर्याप्त गर्म होना चाहिए। हमें वसंत ऋतु की बिल्कुल शुरुआत में ही पौधे नहीं लगाने चाहिए, और न ही बहुत देर से लगाना चाहिए, नहीं तो पौधों को नुकसान होगा। ज़ीनिया के खिलने का मौसम वसंत के अंत समय में शुरू होता है और शरद ऋतु (पहले पाले से पहले) के आने पर समाप्त होता है। ज़ीनिया के पौधे तेजी से बढ़ते हैं और आमतौर पर छह से आठ सप्ताह बाद खिल जाते हैं। इसके लिए बगीचे में धूप वाली जगह चुनना बेहतर होता है। ज़ीनिया को बड़े गमलों में बढ़ना अच्छा लगता हैं। बेहतर परिणाम के लिए आप कम से कम 30 सेमी (12 इंच) का गमला चुन सकते हैं। स्टेट फेयर जैसी बड़ी किस्मों को बड़े गमलों की जरूरत पड़ती है।

पिंचिंग और डेडहेडिंग

अगर हम पौधे को ज्यादा झाड़ीनुमा बनाना चाहते हैं और ज्यादा फूल पाना चाहते हैं तो हम कुछ तनों को हाथ से नोचकर फेंक सकते हैं। इस तकनीक को पिंचिंग कहा जाता है। हम जितना ज्यादा इसे नोचते हैं, ज़ीनिया उतना ही ज्यादा फैलेगा और बड़ा होगा। पहली पत्तियां आने पर हम तने को काट सकते हैं ताकि पौधा उस नयी सामग्री को उत्पन्न करने में अपनी ऊर्जा न व्यर्थ करे। हम विशेष कैंची से तने को काट सकते हैं।

प्रत्येक पौधे का उद्देश्य बीज का उत्पादन करके प्रजनन करना होता है। ज़ीनिया का पौधा आनुवंशिक रूप से अपने जैविक चक्र के एक निश्चित चरण में बीज का उत्पादन करने के लिए बना है। हालाँकि, अगर हम ज़ीनिया के फूलों को बीज पैदा करने देते हैं, तो पौधा अपनी सारी ऊर्जा बीज बनाने की प्रक्रिया में लगा देगा, और इस तरह वो फूल देना बंद कर देगा। इसलिए, अगर हम पौधों की खिलने की अवधि को बढ़ाना चाहते हैं, तो हमें पौधे के हर उस हिस्से को हटाना होगा जिसमें अपरिपक्व बीज होते हैं। इस प्रक्रिया को डेडहेडिंग कहा जाता है, और अधिकांश माली एक सत्र में ये दोनों प्रक्रियाएं (पिंचिंग और डेडहेडिंग) पूरी करते हैं।

ज़ीनिया की सिंचाई – पानी डालना

अधिकांश ज़ीनिया के पौधे भूमध्यरेखीय क्षेत्रों से आते हैं और यही कारण है कि कुछ किस्में सूखे के लिए ज्यादा सहिष्णु होती हैं। भले ही वे सूखी मिट्टी में अच्छे से उग सकते हैं, लेकिन अगर उन्हें अच्छे से पानी दिया जाए तो उन्हें हमेशा फायदा होगा और वो ज्यादा फूल पैदा करेंगे। एक सामान्य नियम के अनुसार, मिट्टी पूरी तरह से सूखने पर, हम सप्ताह में 2-3 बार जिनिया के फूलों को पानी दे सकते हैं।

इसके अलावा, हमें ज़ीनिया की मिट्टी में सिंचाई करनी चाहिए, न कि उनकी पत्तियों पर। इस तरह, हम पौधों को सूखा रखते हैं और बीमारी फैलने का जोखिम कम करते हैं। ज्यादातर लोग सुबह जल्दी ज़ीनिया की सिंचाई कर देते हैं। अगर हम शाम के समय इसमें पानी डालेंगे तो पत्तियां भीगी रहेंगी जिससे उसमें फफूंदी संक्रमण होने का जोखिम ज्यादा होगा। ज़ीनिया की लम्बाई 6-8 इंच (15-20 सेमी) तक पहुंचने के बाद, हम उसके चारों ओर 3 इंच (8 सेमी) घास डाल सकते हैं, ताकि पानी के वाष्पीकरण को नियंत्रित किया जा सके। घास मिट्टी की नमी बरकरार रखने में और अनचाही जंगली घास को रोकने में भी मदद करती है, जो पानी, धूप और पोषक तत्वों के लिए इससे प्रतिस्पर्धा करते हैं।

कटाई – ज़ीनिया के बीजों का संग्रहण 

ज़ीनिया के बीज उत्पादन से फूलों में तेजी से कमी आएगी। लेकिन, अगर आप तब भी ज़ीनिया के बीज इकट्ठा करना चाहते हैं तो आप यह आसानी से कर सकते हैं। सबसे पहले आपको पौधों से बड़े फूलों को काटना बंद करना होगा, ताकि फूल बीज उत्पन्न कर सकें। इसके बाद, आप बीज इकट्ठा करने के लिए कागज़ की थैली प्रयोग कर सकते हैं (ताकि ये नमी सोख सके)। हम फूलों को तोड़कर उन्हें अपनी उंगलियों के बीच हल्के हाथ से रगड़ सकते हैं, ताकि बीज कागज़ की थैली पर गिरे। इसे एकत्रित करने के बाद, हम उन्हें पूरी तरह से सूखने देने के लिए, कुछ हफ्तों के लिए, उथले बर्तनों या किसी कागज़ पर फैला सकते हैं।

ज़ीनिया के पौधों में कीड़े

दुर्भाग्य से, ज़ीनिया में अक्सर कीड़े लग जाते हैं। ज़ीनिया पर हमला करने वाले सबसे सामान्य कीड़ों में हैं, एफिड्स, थ्रिप्स और व्हाइटफ़्लाइज़। हम ज़ीनिया पर हमला करने वाले कीड़ों को आसानी से देख सकते हैं। बस पौधे को हिलाएं और आप कीड़ों के झुंड को उड़ते हुए देख पाएंगे। हम पत्ती के नीचे भी देख सकते हैं। यदि हम सफेद धब्बे या अंडे दिखाई देते हैं, तो शायद एफिड्स या व्हाइटफ़्लाइज़ ने हमारे पौधों पर हमला कर दिया है। सभी मामलों में रोकथाम सबसे अच्छा उपचार है। अगर ये काम नहीं करता, तो आप घर पर ही एक कीटनाशक बना सकते हैं। हम 1 लीटर (33.8 औंस) पानी में 35 ग्राम (1.2 औंस) बर्तन धोने का साबुन और 10 ग्राम (0.36 औंस) अल्कोहल मिला सकते हैं। कभी भी एफिड्स, थ्रिप्स और व्हाइटफ़्लाइज़ के लक्षण दिखाई देने पर, हम सुबह के समय इसका छिड़काव कर सकते हैं। हम यह प्रक्रिया प्रतिदिन कई दिनों तक दोहरा सकते हैं।

ज़ीनिया के पौधों की बीमारियां

ज़ीनिया के पौधों में कीड़ों से ज्यादा फफूंदी संक्रमण का खतरा होता है। पाउडरी फफूंदी और अल्टरनेरिया लीफ स्पॉट ज़ीनिया को प्रभावित करने वाले सबसे सामान्य फफूंदी संक्रमण हैं। जैसा कि नाम से पता चलता है, पाउडरी फफूंदी की वजह से पुरानी या नयी पत्तियों की सतह पर सफ़ेद रंग की फफूंदी लग जाती है। संक्रमित पत्ते स्वस्थ पत्तियों की तुलना में पहले ही गिर जाते हैं। अल्टरनेरिया लीफ स्पॉट की वजह से पत्तियों पर लाल, भूरे और बैंगनी धब्बे पड़ जाते हैं।

कीड़ों के लिए प्रतिकूल परिवेश का निर्माण करना ज़ीनिया का स्वास्थ्य और फलना-फूलना बनाये रखने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। अपने ज़ीनिया के पौधे धूप में उगाएं। उन्हें नियमित रूप से पानी दें, लेकिन कीड़े लगने से रोकने के लिए मिट्टी में अच्छी जल निकासी की व्यवस्था करें। स्वस्थ, मजबूत और खिलने वाले पौधे पाने के लिए, ज़ीनिया के सूखे फूल हटा दें। कोई भी सूखी पत्तियां या फूल हटा दें। साथ ही, कोई भी ऐसे अनचाहे जंगली घास हटा दें जो कीड़े आकर्षित कर सकती है। अगर आपने ये सभी चरण पूरे कर लिए हैं और लेकिन अगर फिर भी आपका पौधा पीड़ित है तो आप अपने स्थानीय लाइसेंस प्राप्त कृषि विज्ञानी से सलाह ले सकते हैं।

यह लेख निम्नलिखित भाषाओं में भी उपलब्ध है: enEnglish esEspañol frFrançais arالعربية pt-brPortuguês deDeutsch ruРусский elΕλληνικα trTürkçe idIndonesia

Wikifarmer की संपादकीय टीम
Wikifarmer की संपादकीय टीम

Wikifarmer सबसे बड़ा ऑनलाइन कृषि पुस्तकालय है जो इसके प्रयोगकर्ताओं द्वारा निर्मित और अपडेट किया जाता है। यहाँ आप नया लेख जमा कर सकते हैं, पहले से मौजूद लेख को संपादित कर सकते हैं, छवियां और वीडियो जोड़ सकते हैं या सैकड़ों आधुनिक कृषि विकास मार्गदर्शकों की मुफ्त उपलब्धता का आनंद उठा सकते हैं। इस वेबसाइट पर प्रदान की जाने वाली किसी भी जानकारी के प्रयोग, मूल्यांकन, आकलन और उपयोगिता के संबंध में सारा उत्तरदायित्व प्रयोगकर्ता का होता है।

Follow Us

Wikifarmer सबसे बड़ा ऑनलाइन कृषि पुस्तकालय है जो इसके प्रयोगकर्ताओं द्वारा निर्मित और अपडेट किया जाता है। यहाँ आप नया लेख जमा कर सकते हैं, पहले से मौजूद लेख को संपादित कर सकते हैं, छवियां और वीडियो जोड़ सकते हैं या सैकड़ों आधुनिक कृषि विकास मार्गदर्शकों की मुफ्त उपलब्धता का आनंद उठा सकते हैं। इस वेबसाइट पर प्रदान की जाने वाली किसी भी जानकारी के प्रयोग, मूल्यांकन, आकलन और उपयोगिता के संबंध में सारा उत्तरदायित्व प्रयोगकर्ता का होता है।

FOLLOW US ON