संतरे के पेड़ की रोपाई और संख्या – प्रति एकड़ और हेक्टेयर संतरे के पेड़ों की संख्या

सबसे पहले हमें चुने गए खेत को 15 इंच (40 सेमी) की गहराई तक जोतना चाहिए। जुताई से हम हमेशा उगने वाली जंगली घास को नष्ट करते हैं और मिट्टी को कोड़ते हैं, जिसकी वजह से पेड़ों की जड़ों का ज्यादा बेहतर विकास होता है। कुछ मामलों में, प्रति हेक्टर 20 से 30 टन गोबर की खाद डालना भी लाभदायक होता है (किसी लाइसेंस प्राप्त कृषि विज्ञानी से पूछें)। इसके बाद, हमें गड्ढे बनाने चाहिए जिसमें हम अपने छोटे पेड़ों की रोपाई करेंगे। गड्ढे 17 इंच (43 सेमी) गहरे होंगे और उनका व्यास 20 इंच (51 सेमी) होगा।

पौधों के बीच की दूरी मुख्य रूप से मिट्टी की उर्वरता और फल की किस्म पर निर्भर करती है। ऐसा पाया गया है कि छोटे पेड़ों की सघन रोपाई के कारण सिट्रस लगाने के शुरुआती वर्षों के दौरान उत्पादन में वृद्धि हुई है। हालाँकि, बहुत ज्यादा पेड़ों की भीड़ के कारण, सघन रोपाई की वजह से उत्पादन में काफी कमी आती है। और जबकि कम घनी रोपाई के कारण पहले वर्षों के दौरान कम उत्पादन होता है, लेकिन बाद में पेड़ बड़े होने के बाद (10-15 वर्ष) उनमें संतोषजनक मात्रा में फल आते हैं।

उपरोक्त सभी कारकों को ध्यान में रखते हुए, “पेड़ की ऊंचाई बराबर रोपाई की दूरी भाग दो धन एक” के समीकरण से उचित दूरी निर्धारित की जानी चाहिए। संतरे के पेड़ों के लिए, अक्सर औसतन 20 X 20 फीट (6 X 6 मीटर) की दूरी प्रयोग की जाती है। इस योजना के अंतर्गत, प्रति एकड़ हमारे पास लगभग 109 पेड़, या प्रति हेक्टेयर 270 पेड़ होंगे। कुछ देशों में, एक सामान्य रोपाई पैटर्न 25 x 20 फीट (7,5 X 6 मी) है, जिसके परिणामस्वरूप प्रति एकड़ 87 पेड़ या प्रति हेक्टेयर 215 पेड़ आते हैं। सघन रोपाई की प्रणाली में, दूरी 15 X 15 फीट (4,5 X 4,5 मीटर) होती है, और इसके परिणामस्वरूप प्रति एकड़ 194 पेड़, या प्रति हेक्टेयर 485 पेड़ (1 हेक्टेयर = 2,47 एकड़ = 10.000 वर्ग मीटर) आते हैं।

आप अपने संतरे के पेड़ की रोपाई और लोकप्रिय पैटर्न के बारे में टिप्पणी करके या उसकी तस्वीर डालकर इस लेख को ज्यादा बेहतर बना सकते हैं।

यह लेख निम्नलिखित भाषाओं में भी उपलब्ध है: English Español Français Deutsch Nederlands العربية Türkçe 简体中文 Русский Italiano Português Indonesia

हमारे साझेदार

हमने दुनिया भर के गैर-सरकारी संगठनों, विश्वविद्यालयों और अन्य संगठनों के साथ मिलकर हमारे आम लक्ष्य - संधारणीयता और मानव कल्याण - को पूरा करने की ठानी है।