संतरे के पेड़ों की छंटाई

संतरे के पेड़ों की छंटाई कैसे करें

सामान्य तौर पर, अगर हम स्वस्थ वयस्क सिट्रस के पेड़ों के ऊपरी हिस्से को हटा देते हैं तो इसकी वजह से उत्पादन में कमी आएगी। यहाँ तक कि छोटे पौधों की भी ज्यादा छंटाई करने पर आमतौर पर उनमें फल आने में देरी होती है। इसलिए, पेड़ों के आकार में थोड़े-बहुत बदलाव करने के लिए केवल हल्की छंटाई की जानी चाहिए। हमारा लक्ष्य पेड़ के आतंरिक हिस्से में वायु संचार और धूप पहुंचना और साथ ही विभिन्न खेती संबंधी गतिविधियों को भी आसान बनाना है।

पहली बार छोटे पेड़ों की कटाई तब की जाती है जब उन्हें खेत में लगाने के लिए क्यारियों से लाया जाता है। इस छंटाई का उद्देश्य पौधों की थोड़ी जड़ प्रणाली और ऊपरी हिस्से को हटाना होता है, ताकि वनस्पति और जड़ प्रणाली के बीच कुछ संतुलन आ सके। पाले, बहुत उच्च तापमान या कृदंतों से नुकसान झेलने वाले पेड़ों को विशेष छंटाई की आवश्यक होती है। यदि नुकसान मामूली है और अगर इससे केवल पत्तियां और छोटे डंठल प्रभावित हैं तो हमें छंटाई करने की आवश्यकता नहीं होती है। लेकिन गंभीर पाले से बड़ी शाखाओं को नुकसान पहुंचा है तो सावधानी से छंटाई करना जरूरी है।

सामान्य तौर पर, वसंत की शुरुआत में छंटाई करने पर बेहतर परिणाम पाए जा सकते हैं, जब पाला पड़ने का खतरा नहीं होता है। वसंत में छंटाई करके ज्यादा नयी वनस्पति पायी जा सकती है और शरद ऋतु की छंटाई से कम फूल-पत्तियां मिलती हैं। शरद ऋतु में पेड़ की छंटाई करने पर आमतौर पर विकास में देरी होती है, जो सर्दियों में पाले के लिए बहुत संवेदनशील होता है। कृपया ध्यान दें कि छंटाई करने वाली कैंची को अल्कोहल के घोल से कीटाणुमुक्त किया जाना चाहिए, क्योंकि इसकी वजह से संतरे के पेड़ों में विभिन्न फफूंदी या बैक्टेरिया संबंधी रोग लग सकते हैं।

यह लेख निम्नलिखित भाषाओं में भी उपलब्ध है: English Español Français Deutsch Nederlands العربية Türkçe 简体中文 Русский Italiano Português Indonesia

हमारे साझेदार

हमने दुनिया भर के गैर-सरकारी संगठनों, विश्वविद्यालयों और अन्य संगठनों के साथ मिलकर हमारे आम लक्ष्य - संधारणीयता और मानव कल्याण - को पूरा करने की ठानी है।