बीज बोने से लेकर फसल काटने तक

प्रमाणित बीजों और स्वस्थ पौधों का प्रयोग करें

अच्छा कृषि अभ्यास सुनिश्चित करने के लिए प्रमाणित बीजों का चयन करना सबसे जरूरी होता है। ऐसी किस्मों की तलाश करना बेहतर होता है जो रोग प्रतिरोधी होती हैं। रोपाई के समय स्वस्थ और मजबूत पौधों को प्राथमिकता देनी चाहिए। किसानों को किसी भी बीमारी का लक्षण दिखाने वाले पौधों को खुद चुनकर फेंक देना चाहिए।

वैज्ञानिक डेटा के अनुसार, उचित तरीके से बीज और पौधे लगाना

सभी उत्पादकों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए, सही तरीके से बढ़ने के लिए प्रत्येक फसल की विशेष रोपाई और स्थान संबंधी जरूरतें होती हैं। बीजों या पौधों को बहुत करीब लगाने पर पौधों में खराबी आ सकती है और फसल में पर्याप्त वायु संचार नहीं हो पाता है। वहीं दूसरी ओर, उन्हें बहुत दूर-दूर लगाने पर, जंगली घास को उगने के लिए जगह मिल सकती है। इस स्थिति में, किसानों को घासफूस नाशक डालने पर मजबूर होना पड़ता है, जिससे बचा जा सकता था। आप ज्यादा जानकारी के लिए और प्रत्येक फसल की उचित बीजारोपण जरूरतों/रोपने की दूरियों के लिए अपने स्थानीय लाइसेंसप्राप्त कृषि विज्ञानी से परामर्श ले सकते हैं।

जल संसाधनों का सतत प्रयोग

  • किसानों को यह सीखने पर ध्यान देना चाहिए कि सिंचाई के लिए उपयुक्त पानी को समझदारी से कैसे इस्तेमाल किया जाए।
  • प्रदूषण से रोकथाम के लिए पानी का नियमित विश्लेषण होना चाहिए।
  • अगर खेत में जानवर हैं तो उन्हें किसी भी पानी के स्रोत से एक सुरक्षित दूरी पर रखें। जानवरों के अपशिष्ट में काफी रोगाणु पाए जाते हैं।
  • पानी के स्रोतों के पास रासायनिक पदार्थ न डालें।
  • विशेष अनुमति पाने के बाद और हमेशा स्थानीय अधिकृत विशेषज्ञों की देखरेख में आप रीसायकल करने योग्य शहरी पानी प्रयोग कर सकते हैं।
  • आपको सभी रीसायकल होने योग्य शहरी पानी के बर्तनों को अलग तरीके से लेबल करना चाहिए, ताकि कोई भी वो पानी न पीये।
  • कई मामलों में, उत्पादक या तो बिल्कुल सुबह-सुबह या दोपहर में देर से अपने पौधों की सिंचाई कर सकता है, जब तापमान सामान्य तौर पर थोड़ा कम होता है। इससे बहुत तेज वाष्पीकरण से पानी के बहुत ज्यादा नुकसान में कमी होगी।
  • स्थिर पानी के स्रोतों को ढंककर रखें। स्थिर पानी जानवरों, कीड़ों और सूक्ष्म जीवों को आकर्षित कर सकता है जिससे जानवर और इंसान दोनों को गंभीर बीमारियां हो सकती हैं।
  • आधुनिक सूक्ष्म सिंचाई विधियों (जैसे: स्प्रिंकलर) पर विचार करें जो पानी का कुशलता से प्रयोग करते हैं।
  • किसी भी क्षेत्र में, हर फसल की पानी संबंधी जरूरतें अलग-अलग होती हैं, जिनका कुछ भाग सामान्य तौर पर बारिश से मिल जाता है। आपको बहुत ज्यादा सिंचाई न करने की और बारिश से पहले बहुत अच्छी तरह से सिंचाई न करने की सलाह दी जाती है। ज्यादा सिंचाई से फसल में कई समस्याएं आ सकती हैं (जैसे: जड़ों का सड़ना, फफूंदी की बीमारियां आदि)। नए या 12 महीने के मौसम के पूर्वानुमानों के अनुसार, विस्तृत सिंचाई योजना बनाने के लिए आप किसी स्थानीय लाइसेंस-प्राप्त कृषि विज्ञानी से परामर्श ले सकते हैं।

खाद का उचित प्रयोग

कई मामलों में, खाद के सही इस्तेमाल से फसल की पैदावार में काफी बढ़ोतरी होती है। हालाँकि, अनियंत्रित और गैर-जिम्मेदाराना इस्तेमाल मिट्टी, पौधे के ऊतकों और पर्यावरण को नुकसान पहुंचा सकता है। आपके लिए कुछ उपाय:

  • अपने स्थानीय अधिकृत संगठन में वार्षिक रूप से कम से कम एक बार मिट्टी का विश्लेषण करने पर विचार करें, ताकि आप उर्वरकों के प्रकार और मात्रा पर एक सूचित निर्णय ले सकें।
  • कोई भी खाद डालने से पहले, हमेशा अपने स्थानीय लाइसेंस प्राप्त कृषि विज्ञानी से सलाह लें। आप अपने स्थानीय लाइसेंस प्राप्त कृषि विज्ञानी से परामर्श ले सकते हैं ताकि आप एक विस्तृत योजना पर सहमति बना सकें (खाद के प्रकार, मात्रा और डालने का समय)।
  • आपको फसल इतिहास में कोई भी खाद डालने का रिकॉर्ड रखना चाहिए। इसके संबंध में सबसे सामान्य समस्या यह आती है कि अक्सर किसान भूल जाते हैं कि उन्होंने कौन सी खाद डाली थी।
  • कई मामलों में, अपने स्थानीय अधिकृत संगठन में कम से कम एक पौधे की पत्ती का विश्लेषण करना समझदारी होती है। पत्ती विश्लेषण (विशेष रूप से वृक्षविज्ञान में) आपको अपने पौधों की विशिष्ट पोषण आवश्यकताओं को समझने में मदद करेगा।
  • आपके द्वारा प्रयोग किये जाने वाले सभी खाद आपके देश में पंजीकृत और स्वीकृत होने चाहिए।
  • किसी भी खाद के उपयोग से पहले लेबल पर दिए गए निर्देशों को ध्यान से पढ़ें।
  • लाइसेंस प्राप्त कृषि विज्ञानी की देखरेख के बिना, दो या अधिक प्रकार के खादों को मिलाने से बचने की कोशिश करें।
  • उत्पादकों को सभी खाद झील के पानी, टंकियों, नदियों आदि जैसे पानी के स्रोतों से एक सुरक्षित दूरी पर रखने चाहिए।
  • खाद सुरक्षित, बंद होने चाहिए और उन्हें उचित वायु संचार वाली जगह पर रखना चाहिए।
  • भंडारण जानवरों और बच्चों से दूर होना चाहिए।
  • जैविक खाद डालने से पहले किसानों को सावधान रहना चाहिए। उन्हें खाद को जानवरों के चारे से अलग स्थान पर रखना चाहिए। कच्चे खाद को उत्पादन क्षेत्रों से उचित दूरी पर रखना चाहिए।
  • उत्पादन क्षेत्रों में जाने से पहले कच्चे खाद के सीधे संपर्क में आने वाले सभी उपकरण, गियर और टूल अच्छी तरह से साफ किये जाने चाहिए। कच्चे खाद या कंपोस्ट के साथ काम करने वाले कर्मचारियों को अपनी व्यक्तिगत स्वच्छता का ध्यान रखना चाहिए, उत्पादन क्षेत्रों या कटाई के बाद की प्रक्रियाओं के संपर्क में आने से पहले उपयुक्त कपड़े, जूते और दस्ताने पहनने चाहिए।

फसल सुरक्षा उत्पाद का उचित प्रयोग 

अच्छे कृषि अभ्यास के पालन के लिए फसल सुरक्षा रसायनों का उचित प्रयोग सुनिश्चित करना जरूरी है। कुछ उपाय:

  • आपको शारीरिक उपायों को प्राथमिकता देनी चाहिए, जैसे, बीमारी फैलने से बचाने के लिए सभी बीमार पौधों को हाथ से चुनकर हटाना।
  • आपको लेबल पर दिए गए निर्देशों को हमेशा ध्यान से पढ़ना चाहिए या किसी लाइसेंस प्राप्त कृषि विज्ञानी से सलाह मांगनी चाहिए।
  • सभी प्रयोग किये जाने वाले रासायनिक पदार्थ, आपके देश में पंजीकृत और स्वीकृत होने चाहिए।
  • लाइसेंस प्राप्त कृषि विज्ञानी की देखरेख के बिना किसी भी प्रकार के फसल सुरक्षा उत्पादों को न डालें या आपस में न मिलाएं।
  • फैलाव और रिसाव को रोकने के लिए हवा या बारिश के दिनों में रसायनों के छिड़काव से बचें।
  • अगर खेत के पास मधुमक्खी के छत्ते लगे हैं तो मधुमक्खियों के लिए हानिकारक कीटनाशकों के प्रयोग से बचें। किसी भी स्थिति में, कोई भी कार्यवाही करने से पहले मधुमक्खी पालक को सूचना दें। अगर आपकी फसल मधुमक्खियों को आकर्षित करती है तो आप किसी निश्चित समय पर, ज्यादातर रात को, छिड़काव कर सकते हैं (अपने स्थानीय लाइसेंस प्राप्त कृषि विज्ञानी और स्थानीय मधुमक्खी पालन संगठन से परामर्श करें)।
  • गंभीर विषाक्तता से बचने के लिए, हर लेबल पर दिए गए आवश्यक समय अंतराल से पहले फसल की कटाई न करें।
  • इस बात का ध्यान रखें कि आपके पास सभी विशेष उपकरण उपलब्ध हों। इसमें दस्ताने, मास्क, जम्पसूट, हैट, बूट, स्प्रेयर आदि शामिल हैं। शरीर का कोई भी हिस्सा रसायनों के संपर्क में नहीं आना चाहिए।
  • इस्तेमाल के बाद आपको सभी उपकरण साबुन और पानी से अच्छे से साफ करना चाहिए।
  • अपने स्थानीय नियमों के अनुसार, रासायनिक पदार्थों और इसे डालने वाले उपकरणों को उचित तापमान और वायु संचार वाले विशेष कमरों में बंद करके रखें।
  • दूसरे किसानों को स्प्रेयर उधार न दें। पिछले कीटनाशकों के अवशेष वर्तमान में प्रयोग किये जाने वाले फसल सुरक्षा उत्पाद के कणों से प्रतिक्रिया कर सकते हैं, जिससे फसल पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ सकता है।
  • बच्चों को छिड़काव किये जाने वाले क्षेत्र से सुरक्षित दूरी पर रखें।
  • जानवरों को छिड़काव किये जाने वाले क्षेत्र से सुरक्षित दूरी पर रखें।
  • रसायनों के प्रयोग के संबंध में खेत पर दिखाई देने लायक और विशेष लेबलिंग का उपयोग करें, ताकि कोई भी उसे छूने या खाने से बच सके।
  • सभी फसल सुरक्षा उत्पादों को उनकी असली पैकेजिंग में रखें। किसान अक्सर इस बात को लेकर अनिश्चित होते हैं कि किस टैंक में किस तरह का रसायन रखा गया है।
  • प्रयोग के बाद खाली पैकेजों को साबुन से धोकर, मोहरबंद बैग में रखना चाहिए और निकट स्थित कचरे के डब्बे में डालना चाहिए।

ऊर्जा संसाधनों का सतत प्रयोग

कई वाणिज्यिक संस्थानों (उदाहरण के लिए, ग्रीनहाउस) में, उत्पादक फसल के संतोषजनक विकास के लिए ऊर्जा के कई स्रोतों का उपयोग करते हैं। हालाँकि, ऊर्जा संसाधनों की अनियंत्रित बर्बादी उत्पादन लागत में बहुत अधिक वृद्धि का कारण बन सकती है। ज्यादा नुकसान से बचने के लिए, कुछ तकनीकों का सुझाव दिया गया है।

  • आधुनिक ऊर्जा-कुशल लाइटिंग उपकरण का इस्तेमाल करें।
  • यदि संभव हो तो ऊर्जा के अक्षय स्रोतों जैसे सौर पैनल या भूतापीय स्रोतों का उपयोग करने पर विचार करें।
  • पौधे की जरूरत के अनुसार प्रकाश और ऊष्मा प्रदान करें। (सलाह के लिए अपने स्थानीय लाइसेंस प्राप्त कृषि विज्ञानी से परामर्श करें)।
  • पौधों की रोशनी और गर्मी की जरूरतों को कम करने के लिए, अपने ग्रीनहाउस के निर्माण के लिए हवा वाले स्थानों के बजाय, धूप वाले स्थानों को प्राथमिकता दें।

फसल की कटाई

किसानों और मजदूरों को कटाई के समय बहुत सावधान रहना चाहिए;

  • उत्पादों को इकट्ठा करने से पहले कर्मचारियों को अपने हाथ धोने चाहिए और बालों को बांधना चाहिए।
  • प्रक्रिया के दौरान धूम्रपान और शराब पीने की अनुमति नहीं है।
  • अपरिपक्व उत्पादों की कटाई से बचें।
  • जमीन पर गिरे हुए फलों में प्रदूषण का ज्यादा जोखिम होता है।
  • किसानों को फलों और सब्जियों को साफ बर्तनों में रखना चाहिए।
  • किसानों को उत्पादों को जानवरों, रसायनों और खादों से दूर, छाया वाले स्थान में रखना चाहिए।
  • उपकरण (जैसे कैंची) साफ और रोगाणुरहित होने चाहिए।

GAP के बारे में ज्यादा जानकारी और विस्तृत स्थानीय निर्देशों के लिए, कृपया अपने स्थानीय प्राधिकरण (उदाहरण के लिए कृषि मंत्रालय) से परामर्श करें। 

अच्छे कृषि अभ्यास

प्रदूषण के जोखिमों को समझना

फसल और खेत का चयन, मिट्टी तैयार करना

बीज बोने से लेकर फसल काटने तक

मवेशी

व्यक्तिगत स्वच्छता और GAP

खाद्य आपूर्ति श्रृंखला (उचित भंडारण और परिवहन)

यह लेख निम्नलिखित भाषाओं में भी उपलब्ध है: enEnglish esEspañol frFrançais arالعربية pt-brPortuguês deDeutsch ruРусский elΕλληνικα trTürkçe idIndonesia

Wikifarmer की संपादकीय टीम
Wikifarmer की संपादकीय टीम

Wikifarmer सबसे बड़ा ऑनलाइन कृषि पुस्तकालय है जो इसके प्रयोगकर्ताओं द्वारा निर्मित और अपडेट किया जाता है। यहाँ आप नया लेख जमा कर सकते हैं, पहले से मौजूद लेख को संपादित कर सकते हैं, छवियां और वीडियो जोड़ सकते हैं या सैकड़ों आधुनिक कृषि विकास मार्गदर्शकों की मुफ्त उपलब्धता का आनंद उठा सकते हैं। इस वेबसाइट पर प्रदान की जाने वाली किसी भी जानकारी के प्रयोग, मूल्यांकन, आकलन और उपयोगिता के संबंध में सारा उत्तरदायित्व प्रयोगकर्ता का होता है।

Follow Us

Wikifarmer सबसे बड़ा ऑनलाइन कृषि पुस्तकालय है जो इसके प्रयोगकर्ताओं द्वारा निर्मित और अपडेट किया जाता है। यहाँ आप नया लेख जमा कर सकते हैं, पहले से मौजूद लेख को संपादित कर सकते हैं, छवियां और वीडियो जोड़ सकते हैं या सैकड़ों आधुनिक कृषि विकास मार्गदर्शकों की मुफ्त उपलब्धता का आनंद उठा सकते हैं। इस वेबसाइट पर प्रदान की जाने वाली किसी भी जानकारी के प्रयोग, मूल्यांकन, आकलन और उपयोगिता के संबंध में सारा उत्तरदायित्व प्रयोगकर्ता का होता है।

FOLLOW US ON