फूलगोभी के पौधे की जानकारी, इतिहास और उपयोग

फूलगोभी एक क्रूसीफेरस सब्जी है, जो ब्रैसिकेसी कुल से संबंधित है। इसका जैविक चक्र सामान्य तौर पर दो साल तक चलता है, लेकिन हम इसे वार्षिक रूप से उगाते हैं, क्योंकि हमारा उद्देश्य कच्चे फूल की कटाई करना होता है। इस कुल के अन्य मशहूर सदस्यों में ब्रोकोली, ब्रुसेल्स स्प्राउट्स और पत्तागोभी शामिल हैं। फूलगोभी का वैज्ञानिक नाम ब्रैसिका ओलेरासिया एल वार. बोट्रीटाइस है और यह लगभग 0.5 मी (1.6 फीट) की ऊंचाई तक बढ़ता है।

फूलगोभी के पौधे में एक मोटा तना होता है जो पत्तियों से घिरा होता है, जिसके ऊपर फूलगोभी उगता है। फूलगोभी के बीच में एक मुख्य फूल खिलता है। किस्म के आधार पर, गोभी का फूल उत्तल या पिरामिड के आकार का हो सकता है। फूलगोभी ब्रोकोली के समान होता है; हालाँकि, ये कई मामलों में एक-दूसरे से अलग होते हैं। उनका मुख्य अंतर यह है कि ब्रोकोली का फूल वाला हिस्सा फूलगोभी के फूल वाले हिस्से से ढीला होता है और एक से ज्यादा फूल विकसित करता है। वहीं दूसरी तरफ, फूलगोभी में बीच में केवल एक फूल आता है। फूलगोभी का वजन 0,5 किलोग्राम से लेकर 2,5 किलोग्राम (1,1 से 5,5 पाउंड) तक हो सकता है। हालाँकि, अधिकांश परिपक्व फूलगोभी का वजन 0,5 से 1,5 किलोग्राम (1,1 से 3,3 पाउंड) होता है।

इस पौधे की उत्पत्ति भूमध्य क्षेत्र में हुई थी। हालाँकि, बाद में यह चीन, भारत, पोलैंड और कई अन्य देशों में लोकप्रिय हो गया। वर्तमान में, चीन दुनिया भर में सबसे बड़ा फूलगोभी उत्पादक है। भारत, पोलैंड, इटली और फ्रांस भी काफी मात्रा में फूलगोभी का उत्पादन करते हैं।

फूलगोभी से जुड़े तथ्य

फूलगोभी के पौधे की जानकारी, इतिहास और उपयोग

फूलगोभी के स्वास्थ्य लाभ और पोषण संबंधी मूल्य

घर पर आसानी से फूलगोभी कैसे उगाएं

फूलगोभी की खेती की जानकारी

यह लेख निम्नलिखित भाषाओं में भी उपलब्ध है: English Español Français Deutsch Nederlands العربية Türkçe 简体中文 Русский Italiano Ελληνικά Português

हमारे साझेदार

हमने दुनिया भर के गैर-सरकारी संगठनों, विश्वविद्यालयों और अन्य संगठनों के साथ मिलकर हमारे आम लक्ष्य - संधारणीयता और मानव कल्याण - को पूरा करने की ठानी है।