नए लोगों के लिए खेती – किसान कैसे बनें – क्रमशः मार्गदर्शक

कृषि के प्रकार – कृषि की परिभाषा – कृषि की परिभाषा दीजिए – कृषि की विभिन्न विधाएं – विश्व में कृषि के प्रकार – कृषि पद्धतियाँ

हम एक ऐसे युग में हैं जहाँ बिल्कुल अलग पृष्ठभूमियों, आयु और शिक्षा स्तरों वाले विभिन्न क्षेत्रों के ज्यादा से ज्यादा लोग गाँव की ओर रुख करके और खेती का व्यवसाय शुरू करके अपना जीवन बदलना चाहते हैं।

चूँकि बिना किसी अनुभव के किसान बनना इतना आसान नहीं है, इसलिए यह मार्गदर्शक आपके लिए चीजों को स्पष्ट करने में और जरूरी मूलभूत कदम समझने में आपकी मदद करेगा।

सबसे पहले, यह समझना बहुत जरूरी है कि वास्तव में किसान क्या करते हैं।

किसान क्या करता है?

ऐसा कोई भी व्यक्ति जो प्राथमिक क्षेत्र में काम करके, खाने या कच्चे माल (जैसे रुई) के लिए जीव-जंतुओं को पालकर अपनी जीविका कमाता है उसे हम किसान के रूप में परिभाषित करते हैं। पौधे उगाते हुए या जानवरों को पालते हुए अपना ज्यादातर समय खेत में बिताने के कारण, ऐसा माना जाता है कि किसान प्रकृति के साथ करीब से जुड़े हुए लोग होते हैं। यह आंशिक रूप से सच है। क्योंकि, समकालीन ग्रीनहाउस किसान दिन भर अपने परिसरों में बंद रह सकते हैं जहाँ धूप तक नहीं आती। सभी मामलों में, किसानों के काम का कोई विशेष समय नहीं होता है। वे जीव-जंतुओं को संभालते हैं और इसकी वजह से अक्सर उनके व्यक्तिगत कार्यक्रम में गड़बड़ी पैदा हो जाती है। कोई निर्धारित कार्यसूची रखना आसान नहीं होता। उनमें से कुछ को अवकाश या छुट्टी का दिन भी नहीं मिलता। सफल होने के लिए खेती में पूर्ण समर्पण, प्रेम और जुनून की आवश्यकता होती है।

चरण 1: फैसला करिये कि किसी विशेष खेत में क्या उगाना है – क्या मुझे मुनाफा हो सकता है

सही फसल चुनना

सबसे पहले, आपको यह फैसला करना होगा कि आप क्या उगाने वाले हैं। हालाँकि, यह एक आसान प्रक्रिया की तरह लग सकता है, लेकिन वास्तव में, यह सबसे जटिल फैसला होता है। जिस प्रकार का पौधा (या जानवर) आप चुनने जा रहे हैं वो शायद आपका सबसे महत्वपूर्ण फैसला हो सकता है।

उत्पादन के आधार पर खेती को श्रेणियों में बांटा गया है। इसकी मुख्य श्रेणियां हैं:

कृषि

अर्बोरीकल्चर (व्यावसायिक फलों के पेड़), सब्जी और फल की खेती, लकड़ी उत्पादन, बायोमास उत्पादन, अनाज की खेती, चारे की खेती, हर्ब्स की खेती, अंगूर की खेती (विटीकल्चर), बेरी की खेती, कपास और दूसरी तरह की विशेष फसलें। इनमें से ज्यादातर फसलों को बाहर लगाया जाता है। उनमें से कुछ को सब्सट्रेट माध्यम के रूप में मिट्टी या वायु/पानी के साथ अंदर (ग्रीनहाउस) में भी लगाया जा सकता है।

पशुपालन

इस श्रेणी में, हम उन किसानों को शामिल करते हैं जो मुख्य रूप से दूध, मांस, या अंडे के लिए जानवरों को पालते हैं। उनके कुछ उदाहरण हैं गाय, भेड़, बकरी, सूअर, और मुर्गी पालन (मुर्गियां, बत्तख, आदि) आदि। कुछ प्राधिकरण मुर्गी पालन को पशुपालन नहीं मानते हैं, बल्कि एक अलग श्रेणी के रूप में मानते हैं।

मधुमक्खी पालन

मधुमक्खी पालन एक विशेष प्रकार की खेती है। किसान शहद की मक्खियों को पालते हैं जिससे वे शहद, पराग, शाही जेली या मोम इकट्ठा करते हैं।

घोंघा पालन

किसान मांस, या “जेली” उत्सर्जन के लिए घोंघे पालते हैं।

कृमि पालन

यह एक विशेष प्रकार की खेती है जिसमें किसान कचरे को जैविक खाद में बदलने के लिए प्रयोग करने के लिए कीड़ों की खेती करते हैं।

शुरुआत करने से पहले, अपनी मनपसंद फसल या पशु पर अच्छी तरह शोध करना जरूरी होता है। 3-4 संभावित फसलों का चुनाव करने के बाद, आपको स्थानीय उत्पादकों और कृषि विज्ञानियों से संपर्क करना चाहिए, ताकि आपको इस बात की जानकारी मिल सके कि आपके  विशेष क्षेत्र में किस प्रकार के पौधे और किस्में पनप सकती हैं।

फसल को बाज़ार से मेल कराएं

सबसे पहले, आपको चयनित फसल के लिए अपने ग्राहक पता करने होंगे। आपके उत्पाद कौन खरीदने वाला है? आपके द्वारा चुनी गयी फसल के लिए आपके क्षेत्र में संभावित खरीदारों की संख्या क्या है? अन्य समान उत्पादों को वो कितने दाम पर खरीदते हैं? वो नकद देते हैं या उत्पाद उधार लेते हैं? वो उत्पाद कब खरीदते हैं? क्या आपको संग्रहण सुविधाओं की जरूरत है ताकि आपको बेहतर दाम के लिए मोलभाव करने का ज्यादा समय मिल सके? क्या आप अपना उत्पाद निर्यात कर सकते हैं (दूसरे देश के खरीदार खोजें)? आपके द्वारा चुने गए उत्पाद की क्या वास्तव में मांग है?

नए किसान अक्सर यह गलती करते हैं कि वो इनमें से किसी भी चीज पर विचार किये बिना अपनी फसल लगाना शुरू कर देते हैं। अगर आपके उत्पाद की कोई मांग नहीं है तो आप शायद दिवालिया हो जायेंगे, भले ही आपने बहुत अच्छा उत्पाद क्यों न उगाया हो। इसलिए, आप अपनी फसलों की सूची के साथ शुरुआत कर सकते हैं और उनमें से प्रत्येक के लिए संभावित बाज़ारों का निरीक्षण शुरू कर सकते हैं। आपको उन फसलों को बाहर निकालना पड़ सकता है जिनके बारे में आप निश्चित नहीं हैं कि आप उन्हें बेच सकते हैं। कुछ मामलों में, शुरूआती किसान स्थानीय किसानों के किसी समूह (संगठन) में शामिल हो जाते हैं ताकि उन्हें सहयोग मिल सके। कई देशों में, किसान (जो कोई विशेष फसल उगाते हैं) एक संगठन बनाते हैं। यह संगठन एक विपणन विभाग बनाता है और उत्पादों के लिए बाज़ार ढूंढने के लिए लोगों का एक समूह नियुक्त करता है। इस तरह से, सभी किसान एक शुल्क का भुगतान करते हैं और वास्तव में बिक्री और विपणन गतिविधियां आउटसोर्स कर सकते हैं। इस प्रकार, उनके पास मुख्य गतिविधियों के लिए ज्यादा समय होता है। लेकिन इस मामले में भी, आपके पास उस बाज़ार की सामान्य समझ होनी चाहिए जिसे आपका उत्पाद लक्षित करने वाला है, ताकि आप हमेशा कोई विकल्प खोजने के लिए तैयार रह सकें।

इस फसल के लिए सही खेत का चुनाव करना

कोई भी गतिविधि शुरू करने से पहले, क्षेत्र की स्थलाकृति, मिट्टी का प्रकार, पर्यावरण की स्थिति और जलवायु बहुत महत्वपूर्ण कारक हैं जिनके बारे में सभी संभावित किसानों को पता होना चाहिए। आपके क्षेत्र की स्थिति आपकी व्यावसायिक योजना और आपकी दैनिक दिनचर्या को पूरी तरह से बदल सकती है। उदाहरण के लिए, समृद्ध और विविध वनस्पतियों वाले क्षेत्र में मवेशी पालन करने वाले किसान अपने जानवरों को खिलाने के लिए घास के मैदानों पर निर्भर हो सकते हैं। वहीं दूसरी ओर, बिना वनस्पतियों वाले क्षेत्रों में मवेशी पालन करने वाले किसानों को चारा खरीदना पड़ेगा, जिसकी वजह से निश्चित रूप से लागत में इजाफा होगा।

खेत के बिना, आप अपना खेती का व्यवसाय शुरू नहीं कर सकते हैं। खेत का चुनाव करने की बात आने पर दो परिदृश्य सामने आते हैं। अगर आप खेत के मालिक हैं तो चीजें आसान होती हैं। लेकिन अगर खेत आपका अपना नहीं है तो आपको किसी और का खेत किराये पर लेना होगा, और यहीं से समस्याओं की शुरुआत होती है।

आपको यह बात ध्यान में रखनी चाहिए कि अगर आपके पास अपना खुद का खेत नहीं है तो आपको पौधों की कुछ श्रेणियों से बचने की कोशिश करनी चाहिए। कई कारणों से, सदाबहार पौधों की श्रेणियां आपके लिए उपयुक्त नहीं हो सकती हैं। सबसे पहले, अगर आप कई सालों के लिए खेत किराये पर लेना चाहते हैं तो इसकी लागत बहुत ज्यादा हो सकती है। इसके अलावा, उदाहरण के लिए, व्यावसायिक फलों के पेड़ों की बात आने पर, आपको पता होना चाहिए कि ज्यादातर पेड़ 6-7 साल से पहले फल देना शुरू नहीं करते हैं। इसलिए, कुछ सालों तक आपको कोई आय कमाये बिना किराये का भुगतान करना होगा। इसके अलावा, कानूनी मसले भी होते हैं। हालाँकि, आप किसी अनुबंध पर हस्ताक्षर कर सकते हैं, जिसके अनुसार आपके पास 30 या इससे ज्यादा सालों के लिए खेत रखने की अनुमति होती है, लेकिन इतने लंबे समय के दौरान कानूनी संरचना बदल सकती है। इसलिए, आपको अपनी फसल नष्ट करके जाने के लिए मजबूर किया जा सकता है, और कुछ मामलों में तो आपको इसके लिए क्षतिपूर्ति भी नहीं मिलती। अगर आप या आपका परिवार अपने खुद के खेत का मालिक नहीं है तो आप लंबे समय की फसलों से जुड़ने से बचने पर विचार कर सकते हैं। सदाबहार हर्ब की फसलें 6-12 साल तक रहती है। अंगूर और फलों के पेड़ आमतौर पर रोपाई के 7-8 साल बाद परिपक्व होते हैं और 30-60 साल या उससे अधिक समय तक अच्छी उपज दे सकते हैं। आप इन श्रेणियों से बचने पर विचार कर सकते हैं। रोपाई या बोने के 3-5 महीने बाद अधिकांश सब्जियों की कटाई की जा सकती है (और इस प्रकार राजस्व प्राप्त किया जा सकता है)। इसलिए ये फसलें नए किसान के लिए अधिक उपयुक्त हो सकती हैं।

अनाज (गेहूँ, जौ, मक्का) और कपास की कटाई 6-9 महीने बाद की जा सकती है, लेकिन इन फसलों को वस्तु माना जाता है। जिसका मतलब है कि इनका मूल्य ज्यादातर स्थानीय मांग और आपूर्ति के अनुसार प्रक्रमक – खरीदार द्वारा निर्धारित किया जाता है। यह एक बहुत ही प्रतिस्पर्धात्मक परिदृश्य है, और अपने पहले साल के दौरान खेती से जुड़कर नए किसान को शायद ही इसमें कभी मुनाफा मिल सकता है। हालाँकि, हर मामला अलग होता है, और हाँ, कुछ मामलों में, कुछ क्षेत्रों में वस्तु फसल की खेती करने में वित्तीय रूप से ज्यादा समझदारी हो सकती है।

किसी भी मामले में, आपके द्वारा चुना गया खेत आपकी चयनित फसल के लिए उपयुक्त होना चाहिए। खेत की संरचना, पीएच स्तर और फसल इतिहास के बारे में अपना शोध करना आपकी जिम्मेदारी है। खेत के विभिन्न स्थानों से 3-4 मिट्टी के नमूने एकत्र करना और उन्हें प्रयोगशाला में भेजना आवश्यक है। एक स्थानीय लाइसेंसधारी कृषि विज्ञानी आपको बता सकता है कि मिट्टी इस फसल के लिए उपयुक्त है या नहीं। आप मिट्टी की उर्वरता पुनर्स्थापित करने के लिए किसी सुधारात्मक कार्रवाई पर सलाह भी ले सकते हैं। अंत में, आपको अपने क्षेत्र के वार्षिक वर्षा के स्तर के साथ-साथ आमतौर पर पहली और अंतिम पाले की तिथियों का भी निरीक्षण करना पड़ता है।

एक अन्य महत्वपूर्ण कारक यह है कि खेत में पानी की सुगमता है या नहीं। ज्यादातर व्यावसायिक फसलों को अच्छी उपज पैदा करने के लिए सिंचाई की जरूरत पड़ती है। यदि आप किसी ऐसे क्षेत्र का चयन करते हैं, जहाँ पानी के स्रोत की सुगमता नहीं है, तो आपको निकटतम संसाधन से स्थानांतरित पानी की टंकियों का प्रयोग करना होगा। पानी की टंकियां लाने के लिए, आपको ट्रैक्टरों की आवश्यकता होगी। इसके लिए ज्यादा लागत और मेहनत लगेगी।

कुल लागत बनाम कुल अनुमानित आय का निरीक्षण करें। क्या मुझे मुनाफा होगा?

अब तक, आपको अपनी सूची पर सीमित संख्या में विकल्प मिल गए होंगे। अब आय और अनुमानित लागत के आधार पर, प्रत्येक विकल्प से आपको जो संभावित आय मिलने वाली है उसका निरीक्षण करके, एक छोटी व्यावसायिक योजना बनाने का समय आ गया है। यह करने का तरीका आसान है। उन सफल किसानों से संपर्क करने का प्रयास करें जिनके पास उन फसलों को उगाने का वर्षों का अनुभव है जिसे आप उगाने के बारे में सोच रहे हैं। अगर ये लोग ईमानदार और विवरण साझा करने के इच्छुक होते हैं तो ये बाज़ार के मूल्यों और वास्तविक लागत के संबंध में जानकारी का सबसे अच्छा स्रोत हो सकते हैं। हालाँकि, ज्यादा वैज्ञानिक राय के लिए, कृषि सलाहकार – विशेषज्ञ भी सभी मापदंडों को ध्यान में रखकर और आपके लिए एक व्यावसायिक योजना बनाकर आपकी मदद कर सकते हैं।

आप ऐसा सोच सकते हैं कि, “फसल की खेती की लागत क्या हो सकती है?” वास्तव में, खेती के प्रकार के आधार पर, यह लागत प्रति वर्ष कुछ सौ से कुछ लाख डॉलर तक अलग-अलग हो सकती है। लागत में शामिल हैं:

  • स्थापन लागत। उदाहरण के लिए, ग्रीनहाउस खेती की बात आने पर लागत वास्तव में अधिक हो सकती है, क्योंकि इसके लिए बहुत सारे महंगे उपकरणों की आवश्यकता होती है (ढांचा, कवर, पंखे, हीटर, लैंप, आदि)।
  • मिट्टी तैयार करने की लागत: जुताई, खेत समतल करना या मिट्टी की उर्वरता पुनर्स्थापित करना
  • बीज/पौधे खरीदने की लागत
  • सिंचाई की लागत: अधिकांश पौधों को औसत उपज उगाने और उत्पादन करने के लिए सिंचाई की आवश्यकता होती है। इस प्रकार, वाणिज्यिक खेती के लिए, ज्यादातर मामलों में, आपको सिंचाई प्रणाली स्थापित करने की आवश्यकता हो सकती है।
  • सुरक्षात्मक जाल और आवरण: कुछ पौधे दूसरों की तुलना में अधिक संवेदनशील हो सकते हैं, और विशेष पर्यावरणीय परिस्थितियों में किसानों को उनकी रक्षा करने की आवश्यकता होती है।
  • उर्वरक या खाद की लागत: वाणिज्यिक उपयोग के लिए उगाये जाने पर, अच्छी उपज पाने के लिए ज्यादातर पौधों में खाद डालने की जरूरत पड़ती है।
  • फसल की सुरक्षा के लिए पदार्थ: पारंपरिक खेती करने वाले उत्पादकों को कृषि रासायनिक उत्पाद खरीदने की आवश्यकता हो सकती है, जो फसल को कीड़ों और बीमारियों से बचाते हैं।
  • श्रम लागत: श्रम लागत सबसे महत्वपूर्ण लागतों में से एक है। अकेले काम करना लगभग असंभव होता है; आपको कम से कम फसल के महत्वपूर्ण चरणों के दौरान (उदाहरण के लिए, कटाई) अपनी मदद के लिए लोगों को काम पर रखना होगा।
  • मशीनरी लागत: कुछ प्रकार की फसलों को बोने या काटने के लिए विशेष मशीनरी की आवश्यकता होती है।
  • भंडारण लागत: जिन उत्पादों को कटाई वाले दिन ही बाज़ार नहीं भेजा जा सकता, उन्हें रखने के लिए किसानों को विशेष क्षेत्रों का निर्माण करने की आवश्यकता हो सकती है। ज्यादातर मामलों में, ये क्षेत्र ऐसे सेंसरों से लैस होते हैं जो तापमान, नमी और CO2 के स्तर को नियंत्रित करते हैं।
  • स्थानांतरण लागत। यह कुल लागत का एक महत्वपूर्ण अंश भी हो सकता है। आपका खरीदार कहाँ स्थित है? कई मामलों में, किसान परिवहन शुल्क का भुगतान करते हैं।
  • फसल बीमा लागत।
  • आपको सलाह देने वाले विभिन्न विशेषज्ञों और वैज्ञानिकों का शुल्क।

जहाँ तक ​​अनुमानित आय का सवाल है, हमें आमतौर पर 3-4 इनपुट की आवश्यकता होती है। सबसे पहले, हमें अपनी फसल की भूमि की कुल सतह की गणना करने की आवश्यकता होती है। दूसरा, हमें अपने क्षेत्र में अपनी फसल की औसत उपज के बारे में शोध करने की आवश्यकता होती है। इन दोनों का गुणा करके हम अपनी अनुमानित कुल उपज प्राप्त कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, मान लीजिये हम बैंगन उगाना चाहते हैं और हमारा खेत 8 हेक्टेयर का है। हम जानते हैं कि हमारे क्षेत्र में प्रति हेक्टेयर औसत बैंगन की पैदावार 25 से 40 टन प्रति हेक्टेयर होती है। इस प्रकार, हमें 8 हेक्टेयर X 25 टन = 200 टन बैंगन को गुणा करना होगा। अंत में, हमें अपने क्षेत्र में बैंगन के बाज़ार मूल्य (खुदरा मूल्य नहीं, बल्कि किसान को मिलने वाली कीमत) पर शोध करने की आवश्यकता होती है। मान लीजिये किसानों के अनुसार प्रति टन यह कीमत 100 डॉलर है। इसके बाद, हमारी अनुमानित आय 200 टन X 100$ प्रति टन = 20000$ होगी। ध्यान रखें कि हमने सबसे कम संभव उपज (40 टन के बजाय 25 टन) को चुना था, क्योंकि शुरुआत में किसान अधिकतम या यहाँ तक कि औसत उपज भी पाने में सक्षम नहीं होते हैं। अक्सर, ऑनलाइन रिपोर्ट की गयी औसत पैदावार सफल किसानों द्वारा केवल कई वर्षों के अनुभव के बाद प्राप्त की जा सकती है। इसके अलावा, इन सभी संख्याओं में महत्वपूर्ण विचलन हो सकता है। उदाहरण के लिए, बैंगन की सभी किस्मों को एक ही कीमत पर नहीं बेचा जा सकता है। विक्रेता यह बोलकर आपके उत्पादों को बहुत कम कीमत पर खरीद सकते हैं कि आपके फल एक समान नहीं हैं (यह शुरूआती किसानों की आम समस्या है)। लेकिन इस मामले में भी, हम इस विशेष फसल के लिए अपनी अनुमानित आय का एक सामान्य दृष्टिकोण रख सकते हैं।

फसल पकने पर आपको मुनाफा होगा या नहीं इसका पता लगाने के लिए इन सभी लागतों और अनुमानित आय का निरीक्षण और दस्तावेज़ीकरण जरूरी होता है। बहुत से लोग अपनी शहरी जीवनशैली से बहुत थक गए हैं। वे देश में कृषि गतिविधियों में संलग्न होकर एक नया जीवन शुरू करना चाहते हैं। हालाँकि, इस तरह के शोध के बिना खेती में संलग्न होने पर निश्चित रूप से आपको व्यक्तिगत आर्थिक विपत्ति का सामना करना पड़ेगा।

चरण 2: अपने वित्तीय विकल्पों का निरीक्षण करें – अपनी पूंजी सुरक्षित करें

यह बताने की जरूरत नहीं है कि किसान को हर महीने या 15 दिन पर भुगतान नहीं किया जाता, जैसा कि सामान्य तौर पर कर्मचारियों के लिए किया जाता है। सर्वश्रेष्ठ परिदृश्य में, किसी किसान को उत्पाद बेचने पर भुगतान मिलता है। इसका मतलब है कि मूल रूप से किसानों को कोई भी आय पाने से पहले उत्पादन की सभी लागतों का खर्च अपनी जेब से देना होगा। इसलिए, आपको सभी इनपुट (बीज, पौधे, उर्वरक, कृषि रसायन, सिंचाई उपकरण, श्रमिकों की मजदूरी, आदि) खरीदने के लिए और कम से कम अगले छह महीने या उससे ज्यादा समय के लिए अपने परिवार के भरण-पोषण के खर्चे के लिए पूंजी सुरक्षित रखनी होगी। अच्छी बात यह है कि अगर आपके पास आवश्यक पूंजी नहीं है तो खेती के ऋण की बात आने पर कई विकल्प मौजूद हैं। कई देशों में, राजकीय संस्थाएं नए लोगों को खेती में जाने के लिए प्रोत्साहित करना चाहती हैं। इसलिए, वे एक गारंटर के रूप में कार्य करती हैं ताकि किसानों को वाणिज्यिक या राज्य बैंकों से शून्य-ब्याज दर पर ऋण मिल सके। कई देशों में अंतर्राष्ट्रीय संस्थाएं भी नए किसानों को ऋण देती हैं। अनुबंध खेती भी एक विकल्प हो सकता है। इसका मतलब है कि किसान और एक खरीदार (उदाहरण के लिए, एक खाद्य प्रसंस्करण कंपनी) फसल लगाने से पहले उत्पाद की एक निश्चित कीमत पर सहमति बनाते हैं। कई मामलों में, खरीदार फसल लगाने के सभी खर्चों की भरपाई करता है, और जाहिर तौर पर, यह राशि किसान की अंतिम आय से काट ली जाती है। यह वित्तपोषण का एक वैकल्पिक रूप भी हो सकता है।

चरण 3: इस बात का ध्यान रखें कि आपके पास जरूरत के समय इनपुट और संसाधन उपलब्ध हों। 

एक अन्य चीज विचार करने योग्य होती है कि आपके पास जरूरत पड़ने पर और उचित मूल्य पर सभी आवश्यक इनपुट और संसाधन उपलब्ध हों। उदाहरण के लिए, किसान अक्सर कुछ प्रक्रियाओं (उदाहरण के लिए, कटाई) में मदद पाने के लिए मजदूरों को काम पर रखते हैं। खेती का व्यवसाय शुरू करने के बाद अगर आपको पता चलता है कि आपके क्षेत्र में कोई कर्मचारी नहीं मिल सकते तो यह आपके लिए बहुत चौंकाने वाली बात होगी। अगर आपके खेत के लिए स्थायी कर्मचारियों की आवश्यकता नहीं है तो भी आपको यह सुनिश्चित करना पड़ता है कि जरूरत पड़ने पर आप कभी-कभी मजदूर नियुक्त कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, अंगूर की खेती के मामले में, ज्यादातर अंगूर के किसानों को फसल काटने की अवधि के दौरान मदद के लिए काफी संख्या में मजदूरों की आवश्यकता होती है। अगर उन्हें उस समय मजदूर नहीं मिलते, तो अंगूरों को ज्यादा समय तक पौधों पर रहना पड़ेगा, और एक सप्ताह के भीतर ही उनकी गुणवत्ता और वाणिज्यिक मूल्य में काफी कमी आएगी। यहाँ तक ​​कि यूएसए जैसे विकसित देशों में भी, अनुभवी किसानों ने जानकारी दी है कि उन्हें सेब के पेड़ के व्यावसायिक बागों को केवल इसलिए छोड़ना पड़ा क्योंकि सेब की कटाई के लिए उन्हें सही समय पर मजदूर नहीं मिल पाए। कपास के किसानों को भी ऐसी ही समस्याओं का सामना करना पड़ता है। एक बिंदु पर फसल अच्छे से पक जाती है और इसे तुरंत काटने की आवश्यकता होती है। हालाँकि, कपास हाथ से नहीं काटा जा सकता; इसे केवल उन ट्रैक्टरों के माध्यम से काटा जा सकता है जिनके लिए लाखों डॉलर का खर्च आता है। क्या आप इस समय ऐसी मशीन किराये पर ले सकते हैं? यदि किसी क्षेत्र में बहुत सारे कपास के खेत हैं, और कटाई करने वाली मशीनों की संख्या कम है, तो केवल कुछ कपास के खेतों को सही समय पर काटा जा पायेगा। बाकी को छोड़ दिया जाएगा, और उनकी गुणवत्ता और बाज़ार मूल्य में कमी आएगी।

परिणामस्वरूप, जैसा कि लगभग हर पेशे और करियर में होता है, एक सफल किसान बनना केवल आपके ऊपर निर्भर नहीं करता, बल्कि आपके स्थानीय परिवेश और वर्षों के समय में आपके द्वारा बनाये गए नेटवर्क पर भी निर्भर करता है। 

चरण 4: जैविक या पारंपरिक खेती? मात्रा चुनें या गुणवत्ता?

संक्षेप में, जैविक खेती में फसल उगाने की उन तकनीकों और तरीकों को शामिल किया जाता है, जो सतत कृषि के माध्यम से पर्यावरण, मनुष्यों और जानवरों की रक्षा करने का प्रयास करते हैं। जैविक खेती के उत्पादकों को उर्वरीकरण और फसल की सुरक्षा दोनों के लिए जैविक पदार्थों के अलावा कोई और चीज प्रयोग करने की अनुमति नहीं होती है। उर्वरीकरण विधियों के रूप में, वे मुख्य रूप से गोबर की खाद, कम्पोस्ट, या विशेष जैविक सिंथेटिक उर्वरकों का प्रयोग करते हैं। फसल सुरक्षा उपायों के रूप में, वे ज्यादातर जालों और शिकारियों का प्रयोग करते हैं। इस खेती की विधि में बहुत मेहनत और पैसों की आवश्यकता होती है और पारंपरिक खेती की तुलना में इसकी पैदावार काफी कम होती है। हालाँकि, जैविक उत्पादक पारंपरिक उत्पादकों की तुलना में अपने उत्पादों को ज्यादा दामों पर बेच सकते हैं। दूसरी ओर, पारंपरिक खेती में कृषि रसायनों या सिंथेटिक उर्वरकों का केवल तभी प्रयोग किया जा सकता है, अगर वे GAP के मानकों के अनुसार प्रयोग किए जाते हैं।

जैविक और पारंपरिक खेती के बीच चुनाव करना आसान नहीं है। यह निश्चित है कि नया किसान लागत में प्रतिस्पर्धा नहीं कर सकता। उसके पास सभी लागतों को नियंत्रित करने और आकर्षक दाम पर एक औसत उत्पाद उत्पादित करने का अनुभव नहीं होता है। इसलिए, कई नए किसान जैविक खेती का चयन करते हैं। इस तरह, वे गुणवत्ता पर दांव लगाते हैं। वे छोटी मात्रा में उच्च-गुणवत्ता वाले उत्पाद के उत्पादन की योजना बनाते हैं जिसे बहुत अधिक कीमतों पर बेचा जा सकता है। उनमें से कुछ इसमें सफल होते हैं, जबकि दूसरे नहीं। किसी भी मामले में, सफल होने के लिए जैविक किसानों को विशेष प्रबंधन, मार्गदर्शन, और थोड़े अनुभव की जरूरत होती है।

चरण 5: भंडारण सुविधाओं और लॉजिस्टिक्स – परिवहन का निरीक्षण करना

सभी उत्पादों को खेत से सीधे बाज़ार नहीं भेजा जाता है। कई मामलों में, फसलों को खरीदार के पास भेजने से पहले कुछ समय तक संग्रहीत करने की जरूरत होती है। थोक विक्रेता अक्सर उत्पादों के भंडारण के लिए जिम्मेदार होते हैं। हालाँकि, कई किसान अपने उत्पादों को थोक विक्रेताओं को नहीं बेचते हैं। इस प्रकार, आपके द्वारा उत्पादित फसल के लिए उचित भंडारण की सुविधा होना महत्वपूर्ण है। ठीक रहने के लिए विभिन्न उत्पादों को अलग-अलग भंडारण स्थितियों की आवश्यकता होती है। ज्यादातर मामलों में, भंडारण क्षेत्र तापमान, नमी, CO2 और प्रकाश की स्थिति को नियंत्रित और प्रेरित करने में सक्षम सेंसरों से लैस इमारतें होती हैं।

कई मामलों में परिवहन किसान की जिम्मेदारी नहीं होती है। हालाँकि, कई किसानों को अपने उत्पाद, विशेष रूप से स्थानीय खरीदारों के लिए, खुद भेजने और डिलीवर करने की जरूरत होती है। परिवहन के लिए जिम्मेदार किसान के पास एक ऐसा वाहन उपलब्ध होना चाहिए, जो उत्पाद को खराब होने से बचाने के लिए, उसकी सुरक्षित शिपिंग की जरूरतों को पूरा करे।

चरण 6: एक किसान को क्या करने की जरूरत होती है – शोध, शोध और एक बार फिर शोध!!

सेंटर ऑफ रूरल अफेयर्स के अनुसार, “पूर्व-औद्योगिक अर्थव्यवस्था में, संपत्ति सीधे भूमि के स्वामित्व से जुड़ी थी। आपके पास जितनी ज्यादा भूमि होगी, आप उतना ही ज्यादा उत्पादन करते हैं और उतने ही ज्यादा पैसे कमा सकते हैं। औद्योगिक अर्थव्यवस्था में, पैसे उनके पास होते थे जिनके पास कारखानों और वितरण प्रणालियों के निर्माण के लिए पूंजी का एक्सेस होता था। वर्तमान में, हम एक ज्ञान-आधारित अर्थव्यवस्था में हैं। अब उसके पास पैसे होते हैं जो कुछ ऐसा जानते हैं जो दूसरे नहीं जानते हैं।”

यह एक किसान के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। सैकड़ों मामलों में, हम किसी क्षेत्र में किसानों के एक समूह को किसी विशेष फसल को समान तरीके से उगाते हुए देखते हैं। ये किसान बिल्कुल समान उत्पाद का उत्पादन करते हैं, लेकिन अंत में, उनमें से केवल एक ही इसे ऊँचे दामों पर बेच पाता है। इस उत्पादक ने विदेशी बाज़ारों को खोजने में या अपने उत्पादों के लिए एक अलग पैकेजिंग का चयन करने में व्यापक शोध किया होगा। हर्ब के मामले में, यह किसान कम दाम में सीधे हर्ब बेचने के बजाय उत्पाद का अर्क निकालकर एसेंशियल ऑइल बेच सकता है। यह किसान आने वाले कई सालों तक सबसे सफल किसान बना रह सकता है, जबकि दूसरे किसान (जो पारंपरिक विधि पर निर्भर रहते हैं) हमेशा इस बात की शिकायत करेंगे कि उन्हें कोई मुनाफा नहीं होता, और खेती आर्थिक रूप से सतत नहीं है। 2020 और उसके बाद के किसानों को अपनी मौजूदा फसलों, अपने उत्पादों के नए प्रयोगों, नयी पैकेजिंग, वैकल्पिक बिक्री माध्यमों, अपने क्षेत्र में विकसित होने योग्य नयी मुनाफेदार फसलों आदि के लिए उगाने की नयी तकनीकों और नए बाज़ारों पर व्यापक शोध (अगर संभव हो तो साल में 365 दिन) करना चाहिए।

किसान बनने के लिए डिग्री की जरूरत नहीं होती। हालाँकि, फसल के संबंध में और विपणन के मुद्दों पर निरंतर ऑनलाइन और ऑफलाइन शोध करना जरूरी होता है। किसी भी परिस्थिति का सामना करने में समर्थ होने के लिए, कुछ ऐसे विषय हैं जिनके बारे में आपको जानकारी लेने की जरूरत हो सकती हैं। उदाहरण के लिए, अपनी फसल को अच्छी तरह से समझना आवश्यक है। जिन किसानों को अपनी फसलों की सामान्य जैविकी, जीवनचक्र, और विकास चरणों के बारे में व्यापक जानकारी होती है, वो शुरूआती चरणों में ही किसी भी संभव शारीरिक या रोगात्मक विसंगतियों को पहचानने में सक्षम होते हैं। इस प्रकार, उनके पास तेजी से तथ्य-आधारित निर्णय लेने का और सालों तक उत्तम दर्ज़े के उत्पादों का उत्पादन करने का बेहतर अवसर होता हैं। इसके अलावा, जल और ऊर्जा संसाधनों के समुचित प्रयोग, उपलब्ध कृषि रसायनों, और अच्छे कृषि अभ्यास के मानकों के अनुसार उनका समझदारी से प्रयोग करने के बारे में जानकारी रखना भी बेहद जरूरी होता है।

सामान्य तौर पर, हालाँकि ऑनलाइन शोध बिल्कुल जरूरी है, लेकिन मूल्यवान जानकारी पाने के अन्य स्रोत भी मौजूद हैं। आपके स्थानीय किसान संघ या आपके स्थानीय कृषि राज्य प्राधिकरण कार्यालय के सदस्य आपके सबसे अच्छे दोस्त होने चाहिए। वे आपको उद्योग की नयी चीजों (व्यावसायिक और वैज्ञानिक) के बारे में सूचित कर सकते हैं, उदाहरण के लिए, बीमारी का प्रकोप, कानूनी ढांचे में बदलाव, आपके उत्पादों के लिए नए बाज़ार, नए संभावित खरीदार, किसी विशिष्ट फसल के लिए उद्दिष्ट ऋण आदि। जाहिर तौर पर, आपको हर चीज पर सवाल उठाना होगा, और अंत में, अपने हर फैसले के लिए आप खुद जिम्मेदार होते हैं। हालाँकि, स्थानीय विशेषज्ञों से प्राप्त होने वाली स्थानीय जानकारी हमेशा सराहनीय होती है और कभी-कभी सही फैसले करने के लिए प्रेरित कर सकती है।

चरण 7: अपनी रूचि के क्षेत्र के बारे में स्थानीय और सर्वव्यापक नियमों की जांच करें।

अच्छे कृषि अभ्यास (जिन्हें GAP के रूप में भी जाना जाता है) ऐसी विधियों की एक श्रृंखला है जिन्हें किसानों को अपने स्वास्थ्य और कल्याण की रक्षा के लिए, अपने उत्पाद का प्रयोग करने वाले लोगों के स्वास्थ्य और कल्याण की रक्षा के लिए और अंत में पर्यावरण की रक्षा के लिए लागू करना पड़ता है। अलग-अलग नियामक और कानूनी संरचनाओं की वजह से इसके मानक हर देश में अलग हो सकते हैं, लेकिन सिद्धांत हमेशा एक रहता है। अच्छे कृषि अभ्यासों के नियम और सिद्धांत एक साथ मिलकर समस्या के निवारण के बजाय, रोकथाम की मानसिकता बनाते हैं।

अच्छे कृषि अभ्यास का क्रियान्वयन फसल लगाने से पहले ही शुरू हो जाता है। उदाहरण के लिए, अगर आप कोई ऐसा खेत चुनते हैं जो बहुत ज्यादा प्रदूषित है तो अगर आप सबकुछ ठीक से करें तो भी आपका उत्पाद सामान्य जनता के लिए हानिकारक होगा। 

अच्छे कृषि अभ्यास लागू करने से निश्चित रूप से किसानों की आय में लंबे समय के लिए बढ़ोतरी होगी और साथ ही, इससे हमें उच्च गुणवत्ता वाले ज्यादा सुरक्षित खाद्य पदार्थ के उपयोग में मदद मिलेगी। अंत में, अच्छे कृषि अभ्यासों के मूल सिद्धांतों के कार्यान्वयन के माध्यम से पर्यावरणीय स्थिरता को लागू किया जाता है। किसानों और कृषि एवं गैर-कृषि उत्पादों की आपूर्ति श्रृंखला में शामिल लोगों का निरंतर प्रशिक्षण और शिक्षा आवश्यक है।

हमारी आधुनिक, पुनर्जीवित कृषि की दुनिया में, हर पेशेवर किसान को अपना उत्पादन बढ़ाने के अलावा, सतत कृषि सिद्धांतों और दिशानिर्देशों के संबंध में सतर्क रहने और उनका पालन करने पर विचार करना पड़ता है। वैश्विक रूप से कई एजेंसियां, खाद्य प्रसंस्करण कंपनियां और खुदरा विक्रेता अपने कृषि उत्पादों की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए, अपने आपूर्तिकर्ताओं के लिए GAP मानकों को लागू करते हैं। जो उत्पादक उन मानकों का पालन नहीं करते हैं, वे धीरे-धीरे पीछे हो जाएंगे।

वैश्वीकरण और अंतर्राष्ट्रीय व्यापार खुदरा विक्रेताओं को आसानी से नए GAP प्रमाणित आपूर्तिकर्ताओं की तलाश करने का अवसर देता है।

पशुपालन

पशुपालन कृषि की तुलना में बहुत अधिक जटिल क्षेत्र है और इसके लिए ज्यादा आर्थिक और व्यक्तिगत संलग्नता की आवश्यकता होती है। यह जानना महत्वपूर्ण है कि सभी क्षेत्रों में सभी वाणिज्यिक पशुपालन परिसरों की अनुमति नहीं होती है। इसके अलावा, ज्यादातर देशों में आबादी वाले क्षेत्रों से पशुपालन परिसरों की दूरी के संबंध में कड़े नियम भी होते हैं। किसी भी गतिविधि को आगे बढ़ाने से पहले आपको अपने क्षेत्र में नियमों के बारे में जानकारी होनी चाहिए।

पशुपालन की बात आने पर, अपना परिसर स्थापित करने के लिए आपके द्वारा चुना जाने वाला क्षेत्र बहुत महत्वपूर्ण होता है। एक बार फिर, अगर आपके पास कोई ऐसा क्षेत्र है, जहाँ आपको जानवरों को रखने की अनुमति है, तो चीजें आसान हो जाती हैं। इसके विपरीत, अगर आपको भूमि किराये या पट्टे पर लेने की आवश्यकता होती है, तो आपकी उत्पादन लागत में काफी वृद्धि हो सकती है और आपको इसे कभी न कभी छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ सकता है। किसी भी मामले में, भूमि के मालिक के साथ एक उचित अनुबंध पर हस्ताक्षर करना सुनिश्चित करें।

पशुपालन शुरू करने की लागत अधिक होती है। उचित वैध पशुपालन परिसर बनाने के लिए और पशुओं को ठीक से रखने के लिए बहुत अधिक निवेश की जरूरत होती है। समकालीन दूध निकालने वाले उपकरण भी महंगे होते हैं। पशुओं के चारे और टीकाकरण से जुड़ी अन्य लागतें भी होती हैं। स्वच्छता मानकों का पालन करना और अच्छी एवं दस्तावेज़ में दर्ज़ की गयी अपशिष्ट प्रबंधन योजना होना आवश्यक है।

एक बार फिर से, यह फैसला करना महत्वपूर्ण है कि आप किस प्रकार की पशुपालन गतिविधि में संलग्न होना चाहते हैं। सभी जानवर सभी के लिए उपयुक्त नहीं होते हैं। जिन जानवरों को आप पालने वाले हैं, वे आपके जीवन और परिवार का हिस्सा होंगे। आप अपने दिन का ज्यादातर समय उनके साथ बिताने वाले हैं। इसलिए सही फैसला करना जरूरी होता है। अपने आँगन (अगर यह वैध है) में 2-3 जानवर रखने के साथ शुरुआत करना एक अच्छी तकनीक है ताकि यह पता लगाया जा सके कि यह पेशा आपके लिए उपयुक्त है या नहीं।

अगर आप इस नयी जीवनशैली को संभाल सकते हैं तो आपको खुद से यहाँ वर्णित प्रश्न पूछने चाहिए। आपके उत्पाद कौन खरीदेगा? आपके दूध, मांस, या अंडे के लिए आपके क्षेत्र में संभावित खरीदारों की संख्या क्या है? अन्य समान उत्पादों को वे किस कीमत पर खरीदते हैं? वे नकद देते हैं या उधार पर खरीदारी करते हैं? वे उत्पाद कब खरीदते हैं? क्या आपको भंडारण सुविधाओं की जरूरत होती है ताकि ज्यादा बेहतर मूल्य के लिए मोलभाव करने के लिए आपको ज्यादा समय मिल सके? क्या आप अपना उत्पाद निर्यात कर सकते हैं (दूसरे देश के खरीदार खोजें)? क्या आपके द्वारा चुने गए उत्पाद की वास्तव में मांग है? क्या आप अंत में इन सभी से लाभ प्राप्त कर सकते हैं (लाभ = कुल आय – कुल लागत)?

यह लेख निम्नलिखित भाषाओं में भी उपलब्ध है: enEnglish esEspañol frFrançais arالعربية pt-brPortuguês deDeutsch ruРусский elΕλληνικά trTürkçe viTiếng Việt idIndonesia

Wikifarmer की संपादकीय टीम
Wikifarmer की संपादकीय टीम

Wikifarmer सबसे बड़ा ऑनलाइन कृषि पुस्तकालय है जो इसके प्रयोगकर्ताओं द्वारा निर्मित और अपडेट किया जाता है। यहाँ आप नया लेख जमा कर सकते हैं, पहले से मौजूद लेख को संपादित कर सकते हैं, छवियां और वीडियो जोड़ सकते हैं या सैकड़ों आधुनिक कृषि विकास मार्गदर्शकों की मुफ्त उपलब्धता का आनंद उठा सकते हैं। इस वेबसाइट पर प्रदान की जाने वाली किसी भी जानकारी के प्रयोग, मूल्यांकन, आकलन और उपयोगिता के संबंध में सारा उत्तरदायित्व प्रयोगकर्ता का होता है।

Follow Us

Wikifarmer सबसे बड़ा ऑनलाइन कृषि पुस्तकालय है जो इसके प्रयोगकर्ताओं द्वारा निर्मित और अपडेट किया जाता है। यहाँ आप नया लेख जमा कर सकते हैं, पहले से मौजूद लेख को संपादित कर सकते हैं, छवियां और वीडियो जोड़ सकते हैं या सैकड़ों आधुनिक कृषि विकास मार्गदर्शकों की मुफ्त उपलब्धता का आनंद उठा सकते हैं। इस वेबसाइट पर प्रदान की जाने वाली किसी भी जानकारी के प्रयोग, मूल्यांकन, आकलन और उपयोगिता के संबंध में सारा उत्तरदायित्व प्रयोगकर्ता का होता है।

FOLLOW US ON