धान की खेती के लिए उपयुक्त मिट्टी

Rice Farming

चावल का खेत और मिट्टी तैयार करना

चावल किसी भी परिस्थिति में ढलने वाला पौधा है जो लगभग किसी भी तरह की मिट्टी में उगाया जा सकता है। जब तक इसकी अच्छे से सिंचाई होती रहती है (चाहे सिंचाई से या बारिश के पानी से), यह गीले या सूखे दोनों खेतों में उग सकता है। हालाँकि, हम अपने खेत में अच्छी पैदावार की उम्मीद करते हैं, इसलिए हमें मिट्टी तैयार करनी होगी, ताकि यह चावल के छोटे पौधों (रोपाई विधि) या पहले से अंकुरित और इनक्यूबेटेड बीजों (सीधे बीज बोने की विधि) को स्वीकार कर सके।

सबसे पहले, चावल के बीजों को अच्छे से साफ कर लेना चाहिए ताकि कोई भी घास-फूस और अनचाही चीजें बाहर निकल सकें। कई किसान मिट्टी कोड़ने के लिए, खेतों को हल से जोतते हैं। इसके अलावा, हैरोइंग से मिट्टी के टुकड़ों को छोटे-छोटे भागों में तोड़ने में मदद मिलती है। लेज़र से भूमि को समतल बनाना भी व्यावसायिक चावल उत्पादकों के बीच बहुत सामान्य गतिविधि है।

ध्यान रखें कि हर खेत अलग है और इसकी अलग-अलग जरूरतें होती हैं। खेत तैयार करने की तर्कसंगत योजना बनाने के लिए हम आपको किसी स्थानीय लाइसेंस-प्राप्त विशेषज्ञ से सलाह लेने का सुझाव देते हैं।

भूमि तैयार करने के दो प्रमुख तरीके हैं, गीली तैयारी, और सूखी तैयारी।

गीली तैयारी

गीली तैयारी पहाड़ी और तराई वाले क्षेत्रों के लिए एक विकल्प है। इस विधि में भविष्य में चावल की खेती करने के लिए खेत को बहुत सारे पानी से तैयार करने की जरूरत होती है। इस विधि में, मिट्टी को पानी से भरकर रखा जाता है। चावल का खेत तैयार करने के लिए हम निम्नलिखित चरणों को ध्यान में रख सकते हैं।

चरण 1: नहर बनाना या मरम्मत करना। सामान्य तौर पर, नहर बारिश के पानी को रोकने में मदद करते हैं। हम खेत के चारों ओर 19×12 इंच के (50×30 सेमी) नहर बना सकते हैं। कई चावल के किसान बताते हैं कि हर नहर की ऊंचाई 1,1-1,9 इंच (3-5 सेमी) होती है। इसका उद्देश्य बारिश के समय पानी की उपलब्धता सुनिश्चित करना होता है।

चरण 2: खेत की सिंचाई। पानी के नहरों के निर्माण के बाद, कई चावल के किसान कम से कम एक सप्ताह तक खेत की सिंचाई करते हैं। इससे मिट्टी चिकनी, मुलायम और जुताई के लिए तैयार हो जाती है।

चरण 3: जुताई की प्रक्रियाएं। मिट्टी की पर्याप्त सिंचाई के बाद हम जुताई कर सकते हैं। जब मिट्टी पर्याप्त रूप से गीली होती है, तो इसके जुताई के लिए तैयार होने की संभावना होती है।

चरण 4: खेत को पानी से भरना। जुताई के बाद, चावल के किसान अक्सर 2 सप्ताह के लिए खेत में पानी भर देते हैं।

चरण 5: सहायक जुताई प्रक्रियाएं। यह चरण खेत को पानी से भरने के कम से कम 10 दिन बाद किया जाता है। इसमें खेत को कोड़ना और हेंगा चलाना शामिल है। रोटावेटर और पावर टिलर से मिट्टी को कोड़ा जा सकता है। मिट्टी कीचड़ जैसी हो जाती है। इस विधि से, सामान्य तौर पर, मिट्टी के पोषक तत्वों का संरक्षण और उपलब्धता प्राप्त हो सकती है। इसके बाद, हम 5-7 दिनों के अंतराल में चावल के खेत में 2-3 बार और हेंगा चला सकते हैं।

चरण 6: खेत समतल करना। गीली तैयारी का अंतिम चरण रोपने से दो दिन पहले होता है। ट्रैक्टर या जानवर इस प्रक्रिया में मदद कर सकते हैं। उनसे जुड़ी एक लकड़ी की तख्ती पूरे मैदान में घूमते हुए इसे समतल कर देगी। मिट्टी की समतल सतह फसलों की उचित वृद्धि के लिए भी आवश्यक है।

सूखी तैयारी

तराई और पहाड़ी खेतों दोनों के लिए सूखी तैयारी की जा सकती है। इस तरह की तैयारी में कम पानी की जरूरत होती है। चावल का खेत तैयार के लिए हम निम्नलिखित चरणों को ध्यान में रख सकते हैं।

चरण 1: नहर बनाना। जैसा कि ऊपर बताया गया है, नहर बारिश के पानी को रोकने में मदद करते हैं। हम खेत के चारों ओर 19×12 इंच के (50×30 cm) नहर बना सकते हैं। आमतौर पर, हर नहर की ऊंचाई 1,1-1,9 इंच (3-5 सेमी) होती है। इसका उद्देश्य बारिश के समय पानी की उपलब्धता सुनिश्चित करना होता है।

चरण 2: जुताई प्रक्रियाएं। मिट्टी की पर्याप्त सिंचाई के बाद हम जुताई कर सकते हैं।

चरण 5: सहायक जुताई प्रक्रियाएं। किसान अक्सर रोटोटिलर से खेत में हेंगा चलाते हैं और इसकी जुताई करते हैं।

चरण 4: खेत समतल करना। सूखी तैयारी में, हमारे पास खेत में पानी की मात्रा कम होती है। इस मामले में, सामान्य रूप से इसे समतल करने के लिए हमें लकड़ी की तख्ती का उपयोग नहीं करना पड़ता है। आमतौर पर, इसमें लेजर से भूमि समतल की जाती है। फसलों की अच्छी वृद्धि के लिए भी मिट्टी की सतह का समतल होना आवश्यक है।

चरण 5: जंगली घास पर नियंत्रण। जंगली घास की वृद्धि को रोकने का एक सामान्य तरीका है कि उन्हें कम से कम दो सप्ताह तक बढ़ने दिया जाए। उनके उगने के बाद, किसान अक्सर घासफूस नाशकों का प्रयोग करते हैं (किसी भी फसल संरक्षण उत्पाद का उपयोग करने से पहले हमेशा किसी लाइसेंस प्राप्त कृषि विज्ञानी से सलाह लें)। हमें किसी भी संभावित तृणनाशक प्रभाव को लेकर बहुत सावधान रहना चाहिए।

यह लेख निम्नलिखित भाषाओं में भी उपलब्ध है: English Español Français العربية Português Deutsch Русский Ελληνικά Türkçe Indonesia

Wikifarmer की संपादकीय टीम
Wikifarmer की संपादकीय टीम

Wikifarmer सबसे बड़ा ऑनलाइन कृषि पुस्तकालय है जो इसके प्रयोगकर्ताओं द्वारा निर्मित और अपडेट किया जाता है। यहाँ आप नया लेख जमा कर सकते हैं, पहले से मौजूद लेख को संपादित कर सकते हैं, छवियां और वीडियो जोड़ सकते हैं या सैकड़ों आधुनिक कृषि विकास मार्गदर्शकों की मुफ्त उपलब्धता का आनंद उठा सकते हैं। इस वेबसाइट पर प्रदान की जाने वाली किसी भी जानकारी के प्रयोग, मूल्यांकन, आकलन और उपयोगिता के संबंध में सारा उत्तरदायित्व प्रयोगकर्ता का होता है।

Follow Us

Wikifarmer सबसे बड़ा ऑनलाइन कृषि पुस्तकालय है जो इसके प्रयोगकर्ताओं द्वारा निर्मित और अपडेट किया जाता है। यहाँ आप नया लेख जमा कर सकते हैं, पहले से मौजूद लेख को संपादित कर सकते हैं, छवियां और वीडियो जोड़ सकते हैं या सैकड़ों आधुनिक कृषि विकास मार्गदर्शकों की मुफ्त उपलब्धता का आनंद उठा सकते हैं। इस वेबसाइट पर प्रदान की जाने वाली किसी भी जानकारी के प्रयोग, मूल्यांकन, आकलन और उपयोगिता के संबंध में सारा उत्तरदायित्व प्रयोगकर्ता का होता है।

FOLLOW US ON