चावल के कीड़े और रोग

Rice Farming

हर साल, एक तिहाई से भी ज्यादा चावल की फसल कीड़ों और बीमरियों की वजह से खराब हो जाती है। अपने फसल के दुश्मनों को जानना और उनका सामना करने के लिए पर्यावरण के अनुकूल रवैया अपनाना बहुत जरूरी है। हम चावल के कीड़ों और रोगों के उचित नियंत्रण के लिए किसी स्थानीय लाइसेंस प्राप्त पेशेवर से परामर्श ले सकते हैं। सबसे सामान्य चावल के कीड़े और रोग नीचे सूचीबद्ध हैं।

कीड़े

  • प्लांटहॉपर और लीफहॉपर; प्लांटहॉपर (डेल्फेसीडी) अक्सर चावल के तने पर हमला करते हैं। इसके विपरीत, लीफहॉपर (सिकाडेलीडाय) पौधों के ऊपरी हिस्सों पर हमला करते हैं। इनसे ग्रस्त पौधों का रंग गहरे भूरे रंग का हो जाता है, जैसे मानो वो जल गए हों।
  • डेफोलिएटर; बहुत सारे कीड़े (लेपिडोप्टेरा, ऑर्थोप्टोरा, और कोलॉप्टेरा), अपना पेट भरने के लिए चावल की पत्तियों पर जाते हैं।
  • अनाज पर हमला करने वाले कीड़े; इबलस पुगनेक्स, इसे राइस स्टिंक बग के रूप में जाना जाता है और ये अपरिपक्व पौधों पर हमला करते हैं और उनका अनाज खाते हैं।

रोग

  • बैक्टीरियल ब्लाइट; यह बीमारी ज़ैंथोमोनस ओरिज़ाई की वजह से होती है। यह ज्यादा आर्द्रता वाले, समशीतोष्ण और उष्णकटिबंधीय जलवायु दोनों में होती है। इसकी वजह से मुख्य रूप से पत्तियां पीली पड़ने लगती हैं।
  • बैक्टीरियल लीफ स्ट्रीक; यह बीमारी भी ज़ैंथोमोनस ओरिज़ाई की वजह से होती है। यह ज्यादा आर्द्रता वाले क्षेत्रों में अस्वस्थ और चोटिल पौधों में पायी जा सकती है। इसकी वजह से पत्तियां सूखने लगती हैं और भूरी हो जाती हैं।
  • भूरे धब्बे; यह एक फफूंदी रोग है जो मुख्य रूप से पत्तियों और पुष्पगुच्छ को प्रभावित करता है। पूरी पत्ती के ऊपर बड़े भूरे धब्बे फैलने शुरू हो जाते हैं। यह सबसे नुकसानदायक चावल के रोगों में से एक है और ज्यादा आर्द्रता वाले खेतों में अक्सर दिखाई देता है ।

इन कीड़ों और बीमारियों को नियंत्रित करने का सबसे अच्छा तरीका है, रोकथाम। चावल के किसानों को निम्नलिखित उपायों पर विचार करना चाहिए:

  • मौसमों के बीच खेत और चावल के खेतों में प्रयोग किये जाने वाले उपकरणों की उचित सफाई करना जरूरी है।
  • प्रमाणित बीजों का उपयोग।
  • उर्वरकों के अत्यधिक प्रयोग से बचना।
  • कई मामलों में, बीज बोने के 40 दिनों के भीतर कीटनाशक डालने की अनुमति नहीं होती है (अपने स्थानीय लाइसेंस प्राप्त कृषि विज्ञानी से पूछें)।
  • अनाज का उचित भंडारण। कई मामलों में, अनाज 13-14% नमी वाले कंटेनरों में रखे जाते हैं।

यह लेख निम्नलिखित भाषाओं में भी उपलब्ध है: enEnglish esEspañol frFrançais arالعربية pt-brPortuguês deDeutsch ruРусский elΕλληνικά trTürkçe idIndonesia

Wikifarmer की संपादकीय टीम
Wikifarmer की संपादकीय टीम

Wikifarmer सबसे बड़ा ऑनलाइन कृषि पुस्तकालय है जो इसके प्रयोगकर्ताओं द्वारा निर्मित और अपडेट किया जाता है। यहाँ आप नया लेख जमा कर सकते हैं, पहले से मौजूद लेख को संपादित कर सकते हैं, छवियां और वीडियो जोड़ सकते हैं या सैकड़ों आधुनिक कृषि विकास मार्गदर्शकों की मुफ्त उपलब्धता का आनंद उठा सकते हैं। इस वेबसाइट पर प्रदान की जाने वाली किसी भी जानकारी के प्रयोग, मूल्यांकन, आकलन और उपयोगिता के संबंध में सारा उत्तरदायित्व प्रयोगकर्ता का होता है।

Follow Us

Wikifarmer सबसे बड़ा ऑनलाइन कृषि पुस्तकालय है जो इसके प्रयोगकर्ताओं द्वारा निर्मित और अपडेट किया जाता है। यहाँ आप नया लेख जमा कर सकते हैं, पहले से मौजूद लेख को संपादित कर सकते हैं, छवियां और वीडियो जोड़ सकते हैं या सैकड़ों आधुनिक कृषि विकास मार्गदर्शकों की मुफ्त उपलब्धता का आनंद उठा सकते हैं। इस वेबसाइट पर प्रदान की जाने वाली किसी भी जानकारी के प्रयोग, मूल्यांकन, आकलन और उपयोगिता के संबंध में सारा उत्तरदायित्व प्रयोगकर्ता का होता है।

FOLLOW US ON