घर पर ब्रोकोली कैसे उगाएं – बगीचे में ब्रोकोली की खेती

आप अपने बगीचे में या गमलों में ब्रोकोली उगा सकते हैं, बशर्ते कि गमलों की चौड़ाई और ऊंचाई कम से कम 45 सेमी (18 इंच) होनी चाहिए। हालाँकि, घर पर फल और सब्जियां उगाना जोखिम भरा हो सकता है। यहाँ आपके लिए कुछ चीजें दी गयी हैं जिन्हें आपको जानने की ज़रूरत हो सकती है।

ब्रोकोली को ठंडे मौसम का पौधा माना जाता है। यदि आप इसे गर्म क्षेत्रों में उगाते हैं तो आपको शायद पता होगा कि इसका फूल खिलना शुरू हो जायेगा। आमतौर पर, किसी भी बागवान के लिए यह एक अप्रिय स्थिति है, जब तक कि आप हरी सब्जी के बजाय, इसे सजावटी पौधे के रूप में इस्तेमाल नहीं करना चाहते हैं! इसलिए, आप इसे 30 °C (86 °F) से अधिक के तापमान वाले क्षेत्रों में नहीं उगा सकते। अगर आप एक औसत उपज पाना चाहते हैं तो ब्रोकोली या तो गर्मी आने से पहले या इसके बाद लगाया और काटा जाना चाहिए।

आप अपना ब्रोकोली का पौधा शरद ऋतु या वसंत के दौरान लगा सकते हैं; हालाँकि, कई मामलों में इसके लिए सबसे अच्छी अवधि शरद ऋतु होती है, ताकि शुरुआती गर्मियों के उच्च तापमान से बचा जा सके। फूल बनाने के लिए, ब्रोकोली को आदर्श रूप से 15-20 °C (59 से 68 °F) के करीब तापमान और बहुत सारी धूप की आवश्यकता होती है। छाया में उगाने पर, फूल बनने में देरी हो सकती है।

अपनी स्थानीय नर्सरी से खरीदे गए पौधों की रोपाई करके ब्रोकोली लगाना, ब्रोकोली उगाने का सबसे आसान तरीका है। आप किसी वैध विक्रेता से अपने पौधों को खरीदने पर विचार कर सकते हैं, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे रोग-मुक्त हैं और उन्हें सीधे उनकी जगह पर लगा दें। रोपाई से पहले आपको मिट्टी से किसी भी खरपतवार, पत्थर या अन्य अनचाही चीजों को हटाना पड़ता है। मिट्टी की संरचना को बेहतर बनाने के लिए आप अपनी मिट्टी की थोड़ी गुड़ाई भी कर सकते हैं। मिट्टी के पोषक तत्वों को बढ़ाने के लिए आप अच्छी तरह सड़ी हुई गोबर की खाद या कम्पोस्ट भी मिला सकते हैं।

इसके बाद, आप पौधों के बीच 45 सेमी (18 इंच) की दूरी रखते हुए, अपनी ब्रोकोली को सीधे मिट्टी में लगा सकते हैं। पौधों को उसी गहराई में रोपना महत्वपूर्ण है, जितनी गहराई में वो नर्सरी में थे। रोपाई के बाद, आप तुरंत सिंचाई कर सकते हैं।

इसके अलावा, आप मिट्टी में सीधे बीज बोकर भी अपनी फसल शुरू करने के बारे में सोच सकते हैं। आप यह सुनिश्चित करने के लिए किसी वैध विक्रेता के पास से बीज खरीद सकते हैं कि ये रोग-मुक्त हों और इसके बाद बीजों के बीच 50-80 सेमी (20-31 इंच) की औसत दूरी रखते हुए उन्हें कतारों में लगा सकते हैं। ज्यादातर मामलों में, गर्मी के अंत में बीज लगाना सबसे अच्छा होता है। रोपाई से पहले आपको मिट्टी से किसी भी खरपतवार, पत्थर या अन्य अनचाही चीजों को हटाना पड़ता है। इसके बाद, मिट्टी की संरचना को बेहतर बनाने के लिए आप अपनी मिट्टी की थोड़ी गुड़ाई भी कर सकते हैं। मिट्टी के पोषक तत्वों को बढ़ाने के लिए आप अच्छी तरह सड़ी हुई गोबर की खाद या कम्पोस्ट भी मिला सकते हैं। इसके बाद, आप छोटे-छोटे गड्ढे खोद सकते हैं और 1 सेमी की गहराई में सीधे जमीन में 2-3 बीज बो सकते हैं। औसतन, आपको प्रति 10 वर्ग मीटर में 1-1.5 ग्राम बीज की आवश्यकता होगी। ब्रोकोली के बीज लगभग 8-10 दिनों में अंकुरित होते हैं। अंकुरण के बाद, सभी बीज अंकुरित होने पर आपको कुछ अंकुरों को हटाना पड़ सकता है, और प्रत्येक रोपाई वाले स्थान पर आप केवल एक स्वस्थ अंकुर लगाते हैं। अंत में, पंक्ति के अंदर आपको पौधों को एक-दूसरे से औसतन 45 सेमी (18 इंच) की दूरी पर लगाना होगा।

सभी मामलों में, आपको लगभग हर दिन अपनी फसल पर ध्यान देना होगा और छोटे पौधों को घोंघों से बचाना होगा।

ब्रोकोली सूखे के प्रति संवेदनशील है, क्योंकि इससे उनके फूलों की गुणवत्ता काफी कम हो जाती है। इसलिए, आपको अपने पौधों को पर्याप्त मात्रा में पानी देना होगा। शुरुआती चरणों के दौरान, ज्यादातर बागवान हर दूसरे दिन थोड़ी मात्रा में पानी देकर अपने ब्रोकोली के पौधों की सिंचाई करते हैं। वे मिट्टी को तब तक नम बनाए रखते हैं जब तक कि बीज अंकुरित नहीं होते और उसके बाद से पानी की मात्रा बढ़ाते हैं। हालाँकि, गर्मी के दिनों के दौरान, आपको दिन में एक बार पानी देना पड़ सकता है।

उर्वरीकरण की विधि के रूप में, आपको बस गोबर की खाद या कम्पोस्ट डालने की ज़रूरत होती है। रोपाई से पहले मिट्टी में मिलाई गयी गोबर की खाद इसके पूरे मौसम के लिए पर्याप्त हो सकती है।

फसल की कटाई का समय पर्यावरण की स्थिति और ब्रोकोली की किस्म पर निर्भर करता है। अधिकांश ब्रोकोली की किस्में रोपाई के बाद 2-3 महीने (60 से 90 दिन) में कटाई के लिए तैयार हो जाती हैं। कटाई का सही समय तब होता है, जब आपको गहरे हरे रंग का सघन सिर दिखाई देता है और किस्म के आधार पर इसका औसत व्यास 9 सेमी (3.5 इंच) हो जाता है। आमतौर पर, हम 10 सेमी तने और पत्तियों सहित इसे काटते हैं।

फूलगोभी में बस एक बड़ा फूल निकलता है। वहीं दूसरी ओर, ब्रोकोली में बीच में एक फूल और किनारे डंठलें होती हैं। इसलिए, ब्रोकोली को कई बार काटा जा सकता है और इससे निरंतर आपूर्ति मिल सकती है। पहली कटाई के बाद दूसरे फूल के विकास को बढ़ावा देने के लिए, आप सिंचाई जारी रख सकते हैं और थोड़ी मात्रा में तरल उर्वरक डाल सकते हैं।

ब्रोकोली से जुड़े रोचक तथ्य

ब्रोकोली का विवरण, इतिहास और उपयोग

ब्रोकली के फायदे

घर पर ब्रोकोली कैसे उगाएं – बगीचे में ब्रोकोली की खेती

ब्रोकली की उन्नत खेती

यह लेख निम्नलिखित भाषाओं में भी उपलब्ध है: English Español Français Português Deutsch Русский Ελληνικά Türkçe

Wikifarmer की संपादकीय टीम
Wikifarmer की संपादकीय टीम

Wikifarmer सबसे बड़ा ऑनलाइन कृषि पुस्तकालय है जो इसके प्रयोगकर्ताओं द्वारा निर्मित और अपडेट किया जाता है। यहाँ आप नया लेख जमा कर सकते हैं, पहले से मौजूद लेख को संपादित कर सकते हैं, छवियां और वीडियो जोड़ सकते हैं या सैकड़ों आधुनिक कृषि विकास मार्गदर्शकों की मुफ्त उपलब्धता का आनंद उठा सकते हैं। इस वेबसाइट पर प्रदान की जाने वाली किसी भी जानकारी के प्रयोग, मूल्यांकन, आकलन और उपयोगिता के संबंध में सारा उत्तरदायित्व प्रयोगकर्ता का होता है।