घर पर आसानी से फूलगोभी कैसे उगाएं

बगीचे में फूलगोभी की खेती

आप अपने बगीचे में या गमलों में फूलगोभी उगा सकते हैं, बशर्ते कि गमलों की चौड़ाई और ऊंचाई कम से कम 45 सेमी (18 इंच) हो। हालाँकि, घर पर फल और सब्जियां उगाना जोखिम भरा हो सकता है। यहाँ आपके लिए कुछ चीजें दी गयी हैं जिन्हें आपको जानने की ज़रूरत हो सकती है।

फूलगोभी को ठंडे मौसम का पौधा माना जाता है। यदि आप इसे गर्म क्षेत्रों में उगाते हैं तो आपको शायद पता होगा कि इसके फूल खिलना शुरू हो जायेगा। आमतौर पर, किसी भी बागवान के लिए यह एक अप्रिय स्थिति है, जब तक कि आप हरी सब्जी के बजाय, इसे सजावटी पौधे के रूप में इस्तेमाल नहीं करना चाहते! इसलिए, आप उन्हें 30 °C (86 °F) से अधिक के तापमान वाले क्षेत्रों में नहीं उगा सकते।

आप अपना फूलगोभी का पौधा शरद ऋतु या वसंत के दौरान लगा सकते हैं; हालाँकि, कई मामलों में सबसे अच्छी अवधि शरद ऋतु होती है, ताकि शुरुआती गर्मियों के उच्च तापमान से बचा जा सके। फूल बनाने के लिए, फूलगोभी को आदर्श रूप से 15-20 °C (59 से 68 °F) के करीब तापमान की आवश्यकता होती है। देर से उगने वाली फूलगोभी की किस्मों को वर्नालाइज़ेशन नामक एक प्रक्रिया से गुजरना पड़ सकता है, ताकि इनमें फूल का विकास हो सके। इसका मतलब है कि उन्हें 7-12 °C (44.6-53.6 ° F) के तापमान में कुछ घंटों के लिए रखने की ज़रूरत होती है। जल्दी उगने वाली किस्मों को आमतौर पर इसकी ज़रूरत नहीं पड़ती है।

अपनी स्थानीय नर्सरी से खरीदे गए पौधों की रोपाई करके फूलगोभी लगाना, फूलगोभी उगाने का सबसे आसान तरीका है। आप किसी वैध विक्रेता से अपने पौधों को खरीदने पर विचार कर सकते हैं ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे रोग-मुक्त हैं और उन्हें सीधे उनकी जगह पर लगा दें। रोपाई से पहले आपको मिट्टी से किसी भी खरपतवार, पत्थर या अन्य अनचाही चीजों को हटाना पड़ता है। मिट्टी की संरचना को बेहतर बनाने के लिए आप अपनी मिट्टी की थोड़ी गुड़ाई भी कर सकते हैं। मिट्टी के पोषक तत्वों को बढ़ाने के लिए आप अच्छी तरह सड़ी हुई गोबर की खाद या कम्पोस्ट भी मिला सकते हैं।

इसके बाद, आप फूलगोभी के पौधों के बीच 20-50 सेमी (7.9-19.7 इंच) और पंक्तियों के बीच 70-80 सेमी (27.5-31.5 इंच) की दूरी रखते हुए, अपनी फूलगोभी को सीधे मिट्टी में लगा सकते हैं। पौधों को उसी गहराई में रोपना महत्वपूर्ण है, जितनी गहराई में वो नर्सरी में थे। रोपाई के बाद, आप तुरंत सिंचाई कर सकते हैं।

इसके अलावा, आप मिट्टी में सीधे बीज बोकर भी अपनी फसल शुरू करने के बारे में सोच सकते हैं। आप यह सुनिश्चित करने के लिए किसी वैध विक्रेता के पास से बीज खरीद सकते हैं कि ये रोग-मुक्त हों और इसके बाद बीजों के बीच 70-80 सेमी (27.5-31.5 इंच) की औसत दूरी रखते हुए उन्हें एक कतार में लगा सकते हैं। ज्यादातर मामलों में, गर्मी के अंत में बीज लगाना सबसे अच्छा होता है। रोपाई से पहले आपको मिट्टी से किसी भी खरपतवार, पत्थर या अन्य अनचाही चीजों को हटाना पड़ता है। इसके बाद, मिट्टी की संरचना को बेहतर बनाने के लिए आप अपनी मिट्टी की थोड़ी गुड़ाई भी कर सकते हैं। मिट्टी के पोषक तत्वों को बढ़ाने के लिए आप अच्छी तरह सड़ी हुई गोबर की खाद या कम्पोस्ट भी मिला सकते हैं। इसके बाद, आप छोटे-छोटे गड्ढे खोद सकते हैं और 1 सेमी की गहराई में सीधे जमीन में 2-3 बीज बो सकते हैं। औसतन, आपको प्रति 10 वर्ग मीटर में 1-1.5 ग्राम बीज की आवश्यकता होगी। फूलगोभी के बीज आमतौर पर 26 °C (80 ° F) के औसत तापमान पर सबसे अच्छी तरह से अंकुरित होते हैं। फूलगोभी के बीज लगभग 8-10 दिनों में अंकुरित होते हैं। अंकुरण के बाद, सभी बीज अंकुरित होने पर आपको कुछ अंकुरों को हटाना पड़ सकता है, और प्रत्येक रोपाई वाले स्थान पर आप केवल एक स्वस्थ अंकुर लगाते हैं। अंत में, पंक्ति के अंदर आपको पौधों को एक-दूसरे से 20-50 सेमी (7.8-19.6 इंच) की दूरी पर लगाना चाहिए।

फूलगोभी सूखे के प्रति संवेदनशील है, क्योंकि इससे उनके फूलों की गुणवत्ता काफी कम हो जाती है। इसलिए, आपको अपने पौधों को पर्याप्त मात्रा में पानी देना होगा। शुरुआती चरणों के दौरान, ज्यादातर बागवान हर दूसरे दिन थोड़ी मात्रा में पानी देकर अपने गोभी के पौधों की सिंचाई करते हैं। वे मिट्टी को तब तक नम बनाए रखते हैं जब तक कि बीज अंकुरित नहीं होते और उसके बाद से पानी की मात्रा बढ़ाते हैं। हालाँकि, गर्मी के दिनों के दौरान, आपको दिन में एक बार पानी देना पड़ सकता है।

उर्वरीकरण की विधि के रूप में, आपको बस गोबर की खाद या कम्पोस्ट डालने की ज़रूरत होती है। रोपाई से पहले मिट्टी में मिलाई गयी गोबर की खाद इसके पूरे मौसम के लिए पर्याप्त हो सकती है।

फसल की कटाई का समय पर्यावरण की स्थिति और फूलगोभी की किस्म पर निर्भर करता है। अधिकांश फूलगोभी की किस्में रोपाई के बाद 2-5 महीने (60 से 150 दिन) में कटाई के लिए तैयार होती हैं। घर में प्रयोग के लिए कटाई का सही समय तब होता है, जब गोभी का फूल औसतन 18 सेमी (7 इंच) या उससे कम के व्यास वाले सघन फूल के रूप में निर्मित हो जाता है।

फूलगोभी से जुड़े तथ्य

फूलगोभी के पौधे की जानकारी, इतिहास और उपयोग

फूलगोभी के स्वास्थ्य लाभ और पोषण संबंधी मूल्य

घर पर आसानी से फूलगोभी कैसे उगाएं

फूलगोभी की खेती की जानकारी

यह लेख निम्नलिखित भाषाओं में भी उपलब्ध है: English Español Français Deutsch Nederlands العربية Türkçe 简体中文 Русский Italiano Ελληνικά Português

हमारे साझेदार

हमने दुनिया भर के गैर-सरकारी संगठनों, विश्वविद्यालयों और अन्य संगठनों के साथ मिलकर हमारे आम लक्ष्य - संधारणीयता और मानव कल्याण - को पूरा करने की ठानी है।

हमारे न्यूजलेटर की सदस्यता लें!

इस फॉर्म को सबमिट करके आप विकिफार्मर से ईमेल न्यूज़लेटर्स प्राप्त करने के लिए सहमत होते हैं।

आपने सफलतापूर्वक न्यूजलेटर की सदस्यता ले ली है!

आपका अनुरोध भेजने का प्रयास करते समय एक त्रुटि हुई थी। कृपया पुन: प्रयास करें।