अपने बगीचे में बैंगन उगाते समय ध्यान रखने योग्य 8 चीजें

बहुत सारे लोग शौक, आत्म-संतोष और अपने खान-पान पर नियंत्रण रखने के लिए अपनी खुद की फल और सब्जियां उगाना पसंद करते हैं। हालाँकि, अपने बगीचे में फल और सब्जियों को उगाने के कुछ जोखिम हैं, साथ ही आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि आपको क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए और ऐसी भी कुछ चीजें हैं जिनसे आपको बचना चाहिए।

बैंगन उगाते समय ध्यान रखने योग्य चीजें:

  1. बैंगन उगाने के लिए ज्यादा तापमान की जरूरत होती है। उन्हें पनपने के लिए 20 °C से 30 °C (70 °F – 85 °F) के तापमान और बहुत अधिक धूप की आवश्यकता होती है। पाले या 35 °C (95 ° F) से ज्यादा के तापमान के कारण फूल आने में देरी हो सकती है और ऊतकों और फूलों को गंभीर नुकसान पहुंच सकता है। अधिकांश बैंगन उत्पादक देशों में, बैंगन की खेती शुरू करने का सबसे अच्छा समय वसंत के दूसरे भाग के दौरान होती है। हालाँकि, संयुक्त राज्य अमेरिका (फ्लोरिडा) और संयुक्त अरब अमीरात में, रोपाई आमतौर पर अगस्त के दौरान होती है और कटाई नवंबर के बाद से शुरू होती है।
  2. अगर आप बीज से तरबूज उगाने की सोच रहे हैं तो आप किसी वैध विक्रेता से प्रमाणित बीज खरीद सकते हैं। अन्यथा, अंकुरण की दर कम हो सकती है और आपका समय भी बर्बाद होगा। इस बात का ध्यान रखें कि बैंगन के बीज ज्यादा ठंड सहन नहीं कर सकते। इसलिए, आप मिट्टी के तापमान को 21-25 °C (70-77°F) के उपयुक्त स्तर पर रखते हुए क्यारियों में बोने के बारे में सोच सकते हैं। उचित वायु संचार के लिए आप ऊपरी आवरण के रूप में घास की परत भी बिछा सकते हैं। अगर आप एक से ज्यादा पौधे लगाने के बारे में सोच रहे हैं तो इस बात का ध्यान रखें कि प्रत्येक पौधे के चारों ओर कम से कम 40 सेमी (16 इंच) की जगह हो। बीजों को अंकुरण तक नम रखना न भूलें। पर्यावरण की स्थितियों के आधार पर, बीज 8-17 दिन में अंकुरित हो जायेंगे। बीज बोने के 4-6 सप्ताह बाद उनमें 3-4 पत्तियां आने पर, आप उन्हें अपनी अंतिम स्थितियों में लगा सकते हैं।
  3. अगर आप बीजों में नहीं उलझना चाहते तो आप किसी वैध विक्रेता से पौधे खरीदकर उन्हें सीधे उनकी अंतिम स्थितियों पर लगा सकते हैं। इस बात को ध्यान में रखें कि 21°C (70°F) से कम के तापमान पर बैंगन लगाना शायद सफल नहीं होगा।
  4. कुछ उत्पादक पौधे के गौण तनों को काटना पसंद करते हैं, ताकि यह दो मुख्य तनों से बड़ा हो सके। छंटाई से वायु संचार में सुविधा होती है, और इसलिए, पौधा आर्द्रता की वजह से होने वाले संक्रमणों से बचता है। दूसरे उत्पादक दावा करते हैं कि पौधे की काट-छांट से पौधे के विकास और फल लगने में देरी होती है। इसके अलावा, कई उत्पादक ज्यादातर सिकुड़े हुए फूलों को तोड़ देते हैं, और पौधे पर केवल मजबूत फूल रहने देते हैं जिससे पौधे को मदद मिलती है। इससे पौधों को अपने पोषक तत्वों को शेष फूलों में भेजने में सहायता मिलती है, जिससे कम लेकिन बड़े फल पैदा होंगे।
  5. ज्यादातर बैंगन उत्पादक 1-1.5 मीटर (50-60 इंच) लंबी डंडियों का प्रयोग करके अपने बैंगन के पौधों को सहारा देना पसंद करते हैं। इस तकनीक से, पत्तियां और फल जमीन के संपर्क में आने से बचते हैं और इस तरह मिट्टी के कीड़ों और बीमारियों से उनकी रक्षा होती है। इसके अलावा, सहारा देने से फलों की कटाई में आसानी होती है और पौधे में वायु संचार और सामान्य स्वास्थ्य बेहतर होता है।
  6. बैंगन के पौधे औसत से उच्च सूखा सहन कर सकते हैं। वहीं दूसरी ओर, उन्हें गीली मिट्टी पसंद नहीं होती है। इसलिए, आपको ज्यादा सिंचाई करने से बचना चाहिए। औसतन, हर 3 दिन पर बैंगन के हर एक पौधे को 1 लीटर पानी की जरूरत होती है। लेकिन, यह कोई नियम नहीं है। रेतीली मिट्टी को ज्यादा पानी की जरूरत हो सकती है क्योंकि वो जड़ों में पर्याप्त पानी बचाकर नहीं रख सकते हैं। वहीं, चिकनी मिट्टी के लिए कम सिंचाई की जरूरत होती है, जिसमें ज्यादा जल निकासी की व्यवस्था नहीं होती।
  7. जहाँ तक बगीचे में खेती करने की बात आती है, तो बहुत से उत्पादक मिट्टी में मुख्य रूप से नाइट्रोजन और पोटैशियम की मात्रा बढ़ाने के लिए गोबर की खाद या कम्पोस्ट डालना पसंद करते हैं।
  8. ज्यादातर बैंगन रोपाई के 60 से 80 दिनों के बाद पूरी तरह तैयार हो जाते हैं। एक सामान्य नियम के अनुसार, बीज भूरे होने से पहले बैंगन की कटाई करना सबसे अच्छा होता है। अगर सभी चीजें सही रहीं तो आप हर स्वस्थ और विकसित पौधे से 6-8 अच्छे आकार के बैंगन पा सकते हैं। व्यावसायिक किसान सालों के अभ्यास के बाद 12-15 बैंगन भी पा सकते हैं, लेकिन यह उनकी किस्म पर भी निर्भर करता है।

बैंगन के बारे में 8 रोचक तथ्य जिसे आपने शायद अनदेखा कर दिया होगा

बैंगन के औषधीय गुण – बैंगन के फायदे

अपने बगीचे में बैंगन उगाते समय ध्यान रखने योग्य 8 चीजें

मुनाफे के लिए खेतों में बैंगन उगाना – शुरू से अंत तक बैंगन की खेती के लिए संपूर्ण मार्गदर्शक

यह लेख निम्नलिखित भाषाओं में भी उपलब्ध है: English Español Français Deutsch Nederlands العربية Türkçe 简体中文 Русский Italiano Português Indonesia

हमारे साझेदार

हमने दुनिया भर के गैर-सरकारी संगठनों, विश्वविद्यालयों और अन्य संगठनों के साथ मिलकर हमारे आम लक्ष्य - संधारणीयता और मानव कल्याण - को पूरा करने की ठानी है।