अपने बगीचे में तरबूज उगाते समय ध्यान रखने योग्य 8 चीजें – Watermelon farming for beginners

बहुत सारे लोग शौक, आत्म-संतोष और अपने खान-पान पर नियंत्रण रखने के लिए अपनी खुद की फल और सब्जियां उगाना पसंद करते हैं। हालाँकि, अपने बगीचे में फल और सब्जियों को उगाने के कुछ जोखिम हैं, साथ ही आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि आपको क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए और ऐसी भी कुछ चीजें हैं जिनसे आपको बचना चाहिए।

ध्यान रखने योग्य चीजें:

  1. यदि आप बीजों से तरबूज उगाना शुरू करने के बारे में सोच रहे हैं, तो आपको यह पता होना चाहिए कि घर पर तरबूज खाने के बाद आपने जो बीज एकत्रित किए हैं, उनमें से ज्यादातर बाँझ हो सकते हैं और इसलिए उनमें फल नहीं आ सकते। इसके बजाय, किसी वैध विक्रेता से प्रमाणित बीज खरीदने पर विचार करें। यह उच्च अंकुरण दर सुनिश्चित करेगा और आप अपना समय भी नहीं गंवाएंगे।
  2. अगर आप पौधों से तरबूज उगाने की सोच रहे हैं तो आप किसी वैध विक्रेता से छोटे पौधे खरीद सकते हैं और इसके बाद उन्हें अपनी जगह पर लगा सकते हैं। तरबूज के पौधे ग्राफ्टेड या नॉन-ग्राफ्टेड हो सकते हैं। ग्राफ्टेड पौधों (ज्यादातर स्क्वैश के रूटस्टॉक पर) का चुनाव करने वाले उत्पादक, रूटस्टॉक की कुछ विशेषताओं का लाभ उठाना चाहते हैं। उदाहरण के लिए, जिन उत्पादकों को मिट्टी-जनित बीमारियों की समस्या होती है वो या तो बीमारी-रोधी नॉन-ग्राफ्टेड किस्में खरीदना पसंद करते हैं, या ऐसी किस्म चुनते हैं जो बीमारी के प्रति संवेदनशील हो सकती है, लेकिन मजबूत रूटस्टॉक पर ग्राफ्टेड होती है। आप अपनी स्थानीय नर्सरी में सामान्य मिट्टी-जनित बीमारियों के बारे में पूछ सकते हैं जो आमतौर पर क्षेत्र में पायी जाती हैं। इस तरह, आप एक ऐसा पौधा चुन पाएंगे जिसके लिए कठिनाइयों का सामना करके, अच्छे आकार और स्वाद वाले तरबूज उगाने की संभावना ज्यादा होगी।
  3. तरबूज अफ्रीका से आते हैं। उन्हें बढ़ने और पनपने के लिए गर्म मिट्टी की आवश्यकता होती है। सामान्य नियम के अनुसार, हम वसंत के अंत समय के दौरान अपने बगीचे में बाकी सभी दूसरी सब्जियां लगाने के बाद अपने बीज और पौधे लगाते हैं। तरबूज को 18 °C से 35 °C (65 °F – 95 °F) तापमान और बहुत अधिक धूप की आवश्यकता होती है। यहाँ तक कि जरा सी भी ठंड इसके ऊतकों और फलों को गंभीर नुकसान पहुंचा सकती है। उष्णकटिबंधीय जलवायु में, तरबूज के पौधे लगाने के लिए सर्दियां सबसे अच्छा समय हैं, जबकि ज्यादा ठंडी जलवायु वाले स्थानों में, हम वसंत के अंत समय में अपने तरबूज के पौधे लगा सकते हैं। व्यावसायिक तरबूज उत्पादक मिट्टी को गर्म करने के लिए और जंगली घास नियंत्रित करने के लिए, काली प्लास्टिक की फिल्म से मिट्टी को ढंक देते हैं। बगीचे में तरबूज उगाने वाले लोग भी तरबूज के पौधे के आसपास की मिट्टी को काली चटाई से ढंककर, कुछ ऐसा ही कर सकते हैं।
  4. हमें अपने खेत में अच्छी जल निकासी वाला धूपदार स्थान चुनना चाहिए। तरबूज उगाते समय, उनके लिए पर्याप्त जगह होना जरूरी है। अगर हम बहुत ज्यादा पौधा लगा देते हैं तो हम अच्छे आकार वाले तरबूज नहीं उगा पाएंगे। सामान्य नियम के अनुसार, हम प्रति 1 वर्ग मीटर में 1 तरबूज का पौधा लगाएंगे। अगर सबकुछ सही हुआ तो हम इस पौधे से दो अच्छे आकार वाले तरबूज पाने में समर्थ होंगे। खुदाई या रोपाई से पहले, हमें मिट्टी में नाइट्रोजन स्तर को बढ़ाने के लिए कुछ जैविक खाद डालने की आवश्यकता हो सकती है।
  5. तरबूज को ‘भूखे’ पौधों के रूप में माना जाता है। यहाँ, हम उनकी पोषण संबंधी आवश्यकताओं की बात कर रहे हैं। कई उत्पादक मिट्टी में नाइट्रोजन और पोटैशियम का स्तर बढ़ाने के लिए, तरबूज उगाने के मौसम में खाद या कम्पोस्ट डालना पसंद करते हैं।
  6. तरबूज के गूदे में लगभग 92% प्रतिशत पानी होता है। स्वादिष्ट गूदे वाले अच्छे आकार के फल पैदा करने के लिए तरबूज के पौधों को बहुत अधिक पानी की आवश्यकता होती है। इसलिए, आपको उन्हें नम रखना चाहिए, लेकिन बहुत ज्यादा पानी डालने से बचें। औसतन, तरबूज को हर हफ्ते 25 मिमी पानी की आवश्यकता होती है। यह, निश्चित रूप से, कोई नियम नहीं है। रेतीली मिट्टी को ज्यादा पानी की आवश्यकता हो सकती है क्योंकि वो पानी को जड़ों में बांधकर नहीं रख पाती है। दूसरी ओर, अच्छी जल निकासी रहित, चिकनी मिट्टी को कम सिंचाई की जरूरत पड़ती है। हमें कभी भी पत्ते को पानी नहीं देना चाहिए, क्योंकि इससे बीमारी का प्रकोप बढ़ेगा।
  7. कुछ उत्पादक पौधे के सहायक तनों को काटना पसंद करते हैं, ताकि यह मुख्य लता से बड़ा हो सके। छंटाई से वायु संचार में सुविधा होती है, और इसलिए, पौधा आर्द्रता की वजह से होने वाले संक्रमणों से बचता है। दूसरे उत्पादक दावा करते हैं कि पौधे की काट-छांट से हम पौधे के विकास और फल लगने में देरी करते हैं। हालाँकि, ज्यादातर उत्पादक हर पौधे पर 1 से 3 तरबूज छोड़कर, ज्यादातर खराब आकार वाले या अविकसित तरबूजों को हटाने पर अपनी सहमति जताते हैं। इस विधि को पतला करना या थिनिंग कहते हैं। इससे पौधों को अपने पोषक तत्वों को कुछ फलों में भेजने में सहायता मिलती है, जिससे उनका आकार और स्वाद ज्यादा बढ़ेगा।
  8. बीज से उगाने पर तरबूज की कटाई में औसतन 100 से 120 दिन लगते हैं। अधिकांश किस्में रोपाई से लगभग 80 दिन में तैयार हो जाती हैं। पका हुआ तरबूज खोजने का एक अच्छा तरीका है, मिट्टी के संपर्क में रहने वाली सतह पर पीले धब्बे का पता लगाना। इस फल को 1 महीने तक फ्रिज में रखा जा सकता है। फसल की कटाई के बाद तरबूज में शर्करा की मात्रा नहीं बढ़ाई जा सकती है।

यह लेख निम्नलिखित भाषाओं में भी उपलब्ध है: enEnglish esEspañol frFrançais arالعربية pt-brPortuguês deDeutsch ruРусский elΕλληνικά trTürkçe idIndonesia

Wikifarmer की संपादकीय टीम
Wikifarmer की संपादकीय टीम

Wikifarmer सबसे बड़ा ऑनलाइन कृषि पुस्तकालय है जो इसके प्रयोगकर्ताओं द्वारा निर्मित और अपडेट किया जाता है। यहाँ आप नया लेख जमा कर सकते हैं, पहले से मौजूद लेख को संपादित कर सकते हैं, छवियां और वीडियो जोड़ सकते हैं या सैकड़ों आधुनिक कृषि विकास मार्गदर्शकों की मुफ्त उपलब्धता का आनंद उठा सकते हैं। इस वेबसाइट पर प्रदान की जाने वाली किसी भी जानकारी के प्रयोग, मूल्यांकन, आकलन और उपयोगिता के संबंध में सारा उत्तरदायित्व प्रयोगकर्ता का होता है।

Follow Us

Wikifarmer सबसे बड़ा ऑनलाइन कृषि पुस्तकालय है जो इसके प्रयोगकर्ताओं द्वारा निर्मित और अपडेट किया जाता है। यहाँ आप नया लेख जमा कर सकते हैं, पहले से मौजूद लेख को संपादित कर सकते हैं, छवियां और वीडियो जोड़ सकते हैं या सैकड़ों आधुनिक कृषि विकास मार्गदर्शकों की मुफ्त उपलब्धता का आनंद उठा सकते हैं। इस वेबसाइट पर प्रदान की जाने वाली किसी भी जानकारी के प्रयोग, मूल्यांकन, आकलन और उपयोगिता के संबंध में सारा उत्तरदायित्व प्रयोगकर्ता का होता है।

FOLLOW US ON