अंगूर का उर्वरीकरण प्रबंधन

अंगूरों में खाद कब और कैसे डालें – अंगूर के बाग की उर्वरक संबंधी आवश्यकताएं। 

उर्वरीकरण की कोई भी विधि प्रयोग करने से पहले, आपको मिट्टी के अर्द्धवार्षिक या वार्षिक परीक्षण के माध्यम से अपने खेत की मिट्टी की स्थिति पर विचार कर लेना चाहिए। कोई भी दो खेत एक जैसे नहीं होते, न ही कोई भी आपके खेत की मिट्टी के परीक्षण डेटा, ऊतक विश्लेषण और फसल इतिहास पर विचार किये बिना आपको उर्वरीकरण की विधियों की सलाह दे सकता है।

उर्वरीकरण की सबसे ज्यादा प्रयोग की जाने वाली विधियों में मिट्टी की ऊपरी सतह पर खाद डालना, पत्तियों पर खाद डालना, और फर्टिगेशन (सिंचाई प्रणाली के अंदर पानी में घुलनशील खादों का समावेश) शामिल हैं। आजकल, सटीक कृषि के अंतर्गत खेत में उच्च तकनीक का प्रयोग किया जाता है, जिससे उत्पादकों को किसी भी विशेष बेल की जरूरतों का सही आकलन करने का अवसर मिलता है।

एक सामान्य नियम के अनुसार, फसल उगाने की शुरूआती अवधि के दौरान, पौधे को पत्तियों की सतह विकसित करने के लिए और प्रकाश संश्लेषण के लिए ज्यादा नाइट्रोजन की जरूरत होती है। फलों के विकास के दौरान, पौधों को अच्छे आकार वाले अंगूरों के उत्पादन के लिए पोटैशियम की जरूरत होती है। फॉस्फोरस की हमेशा आवश्यकता होती है, क्योंकि यह पोषक तत्वों के संचार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसके अलावा, रोपाई के बाद शुरूआती सालों के दौरान, फॉस्फोरस पौधे की एक स्वस्थ जड़ प्रणाली विकसित करने में मदद करता है। कई मामलों में, अम्लीय मिट्टी में लगाए गए छोटे पौधे फॉस्फोरस का सही से प्रयोग नहीं कर पाते हैं। इसलिए, बहुत से किसान रोपाई से पहले P2O डालते हैं। कैल्शियम फल की परिपक्वता और रंग को नियंत्रित करता है और एक समान अंगूर के उत्पादन के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

पहली बार सर्दी (फरवरी) के अंत में खाद डालने की जरूरत होती है। कई किसान अच्छी तरह सड़ी हुई गोबर की खाद डालकर खेत की जुताई कर देते हैं। कुछ हफ्ते बाद, किसान उगने की अवधि के दौरान यूरिया डाल सकते हैं, जिससे पौधे की पत्तियों की ज्यादा अच्छी सतह विकसित हो सके। कुछ उत्पादक, नाइट्रोजन आधारित पत्तियों की खाद डालते हैं। दूसरे किसान उगने की अवधि की शुरुआत के दौरान अच्छी तरह संतुलित धीरे-धीरे मिट्टी में निकलने वाली दानेदार खाद (12 – 10 – 20 (+28) + 2MgO + ΤΕ – 500 किग्रा प्रति हेक्टेयर – 12 बारह सप्ताह में निकलता है) भी डालते हैं, ताकि पौधों के पास उन पोषक तत्वों को धीरे-धीरे अवशोषित करने के लिए पर्याप्त समय हो। कई मामलों में, उत्पादक फल पकने के दौरान KNO3 डालते हैं। ऐसा माना जाता है कि पोटैशियम से अंगूर को गहरा लाल रंग पाने में मदद मिलती है। (ध्यान रखें कि 1 हेक्टेयर = 2,47 एकड़ = 10.000 वर्ग मीटर और 1 टन = 1000 किलो = 2200 पाउंड)

कुछ किसान समुद्री शैवाल के सत्त (एस्कोफिलम नोडोसम) का प्रयोग करते हैं, जबकि अन्य किसान विशेष रूप से क्षारीय मिट्टी पर नैनो-आकार के कैल्शियम-आधारित उर्वरक का प्रयोग करते हैं। एक अध्ययन से पता चला है कि नैनो आकार के कैल्शियम-आधारित उर्वरक के प्रयोग से क्षारीय मिट्टी पर उगाये जाने वाले अंगूरों की बेलों की पत्तियों के विकास और क्लोरोफिल सांद्रता में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। समुद्री शैवाल के सत्त के प्रयोग से अंगूरों के पत्ते की जिंक क्लोरोफिल की मात्रा में भी वृद्धि होती है। आप यहाँ इसके बारे में और अधिक पढ़ सकते हैं।

किसी अंगूर के खेत में आवश्यक उर्वरकों का प्रकार और मात्रा कई अलग-अलग कारकों पर निर्भर करते हैं। अंगूर के खेत के प्रकार और अंगूर के किस्म सहित मिट्टी का प्रकार, पौधे की आयु, प्रशिक्षण प्रणाली, पर्यावरण की स्थिति आदि सभी महत्वपूर्ण कारक हैं। विभिन्न विकास चरणों के दौरान पौधे को विभिन्न पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है।

जैसे-जैसे पौधा बढ़ता है, इसकी पोटैशियम की जरूरतें भी बढ़ती हैं, जबकि नाइट्रोजन की जरूरत कम होती है। इस चरण के दौरान, पौधा अपने फलों में शर्करा, फेनोलिक और सुगंधित पदार्थों की मात्रा बढ़ाने के लिए अपने पोषक तत्वों को फलों में वितरित करता है।

अंगूर के खेतों में खाद डालने का समय भी अलग-अलग होता है। उदाहरण के लिए, वाइन अंगूर के नहीं सींचे जाने वाले खेतों में, कुछ उत्पादक सर्दियों के दौरान धीरे-धीरे मिट्टी में निकलने वाली खाद को मिट्टी की सतह पर फैलाकर डालना पसंद करते हैं। सींचे गए अंगूर के खेतों में, वो मिट्टी की सतह पर डालने के लिए 75% फॉस्फोरस और मैग्नीशियम के साथ, 50% नाइट्रोजन और पोटैशियम प्रयोग करते हैं। इसके बाद, वो शेष नाइट्रोजन और फॉस्फोरस फल लगने के चरण के दौरान डालते हैं, और बाकी पोटैशियम 3-4 बार में डाला जाता है। जिन खेत की मिट्टियों में CaCO3 की मात्रा ज्यादा होती है, वहां आयरन की कमी देखी जा सकती है। इसलिए उत्पादक फर्टिगेशन के माध्यम से या पत्तियों पर स्प्रे करके कीलेटेड आयरन के प्रकार प्रदान कर सकते हैं। पत्तियों पर उर्वरक डालने से हमें अल्पकालिक कमियों को तेजी से दूर करने में मदद मिल सकती है। हालाँकि, आमतौर पर यह अन्य प्रकार के उर्वरीकरण का स्थान नहीं ले सकता है। मिट्टी पर खाद के प्रयोग का प्रभाव आमतौर पर ज्यादा समय तक रहता है।

हालाँकि, ये केवल सामान्य पैटर्न हैं जिनका पालन अपना खुद का शोध किये बिना नहीं किया जाना चाहिए। हर खेत अलग है और उसकी अलग-अलग जरूरतें हैं। खाद डालने की कोई भी विधि प्रयोग करने से पहले मिट्टी की स्थिति और पीएच की जाँच महत्वपूर्ण है। आप अपने स्थानीय लाइसेंस प्राप्त कृषि विज्ञानी से परामर्श ले सकते हैं।

अंगूर की बेलों में पोषक तत्वों की कमी और विषाक्तता।

नाइट्रोजन: पौधे के कम विकास और काफी छोटे अंगूरों के साथ-साथ, निचली पत्तियों में हरितरोग अंगूर की बेलों में नाइट्रोजन की कमी के सबसे सामान्य लक्षण हैं। वहीं, दूसरी ओर ज्यादा मात्रा में नाइट्रोजन डालने की वजह से अंगूर की टहनियों का विकास दर बढ़ जाता है और उनका अत्यधिक उत्पादन होता है, जिसकी वजह से प्रतिस्पर्धा बढ़ती है और फलों का विकास रुक सकता है। परिणामस्वरूप, हमें कम शर्करा की मात्रा वाले निम्न गुणवत्ता वाले फल मिलते हैं, वहीं साथ ही, अम्ल की मात्रा बढ़ सकती है। इसके अलावा, बेल के अति विकास के अन्य नकारात्मक परिणाम भी होते हैं। इसकी वजह से बहुत ज्यादा पत्तियां उत्पन्न होती हैं, और एक-दूसरे पर चढ़ने लगती हैं जिससे वायु का संचार सही से नहीं हो पाता। परिणामस्वरूप, इसकी वजह से बीमारियों का प्रकोप हो सकता है।

पोटैशियम: पोटैशियम की कमी पत्तियों के परिधीय और अंतरा-शिरीय हरितरोग से व्यक्त होती है। साथ ही, पोटैशियम की कमी की वजह से उत्पादन में काफी गंभीर समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं। इसके लक्षणों में उत्पादन की गिरावट, फल पकने में देरी और छोटे अंगूर शामिल हैं। इसकी वजह से फल में शर्करा की मात्रा भी प्रभावित हो सकती है जिसकी वजह से इसका व्यावसायिक मूल्य कम होता है। वहीं दूसरी ओर, ज्यादा पोटैशियम की मात्रा के कारण मैग्नीशियम या जिंक जैसे अन्य पोषक तत्वों की कमी हो सकती है क्योंकि ये प्रतिस्पर्धी तत्व हैं।

बोरान: बोरान की कमी की वजह से अंगूर की बेल पर कई समस्याएं उत्पन्न होती हैं, जैसे छोटी पत्तियों पर हरितरोग, असमान पत्तियों का समूह और अंगूर का विकास, फलों के उत्पादन में कमी और फलों में बीज की अनुपस्थिति।

मैग्नीशियम: शर्करा के संश्लेषण के लिए मैग्नीशियम बेहद आवश्यक है, जो प्रत्येक अंगूर की अद्वितीय इंद्रिय ग्राही विशेषताओं को परिभाषित करने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अक्सर ज्यादा पोटैशियम के कारण मैग्नीशियम की कमी देखी जा सकती है। यह रेतीली, अम्लीय मिट्टी में भी आम है। इसके लक्षणों में हरितरोग और पत्ती के किनारों का परिगलन शामिल है।

फॉस्फोरस: फॉस्फोरस की कमी नाइट्रोजन की कमी जितनी सामान्य नहीं है। हालाँकि, यह अक्सर ठंडे समय के दौरान, अम्लीय या बहुत क्षारीय मिट्टी में, कार्बनिक पदार्थों में खराब या आयरन में समृद्ध मिट्टियों में देखी जा सकती है। फॉस्फोरस की कमी को शुरू में पत्तियों पर छोटे लाल बिंदुओं के माध्यम से समझा जा सकता है। इसके लक्षणों में प्रकाश संश्लेषण की क्षमता में कमी, प्रजनन क्षमता में कमी और फल लगने में कमी शामिल हैं। नतीजतन, अंगूर की बेलें कम उपज देती हैं।

कैल्शियम: उच्च सूखे की स्थितियों या ज्यादा सोडियम सहित 5,5 से कम पीएच स्तर, रेतीली मिट्टियों के मामलों में कैल्शियम की कमी संभव है। अन्य कमियों के विपरीत, कैल्शियम की कमी पत्तियों पर नहीं, बल्कि अंगूरों पर जाहिर होती है।

आयरन: हम कॉपर या मैंगनीज के उच्च स्तरों वाले, जल से भरी हुई क्षारीय मिट्टियों में आयरन की कमी देख सकते हैं। ये लक्षण मुख्य रूप से सबसे छोटी पत्तियों पर दिखाई देते हैं, जिससे अंतःशिरा हरितरोग हो जाता है।

जिंक: जिंक की कमी मुख्य रूप से छोटी पत्तियों पर दिखाई देती है। वे पीली पड़ जाती हैं, साथ ही हम उनमें विषमता भी देख सकते हैं (पत्ती का आधा हिस्सा दूसरे की तुलना में बहुत छोटा और विकृत होता है)।

आप अपने अंगूर के खेत की उर्वरीकरण तकनीकों के बारे में टिप्पणी या तस्वीर डालकर इस लेख को ज्यादा बेहतर बना सकते हैं।

विटिकल्चर की परिभाषा – विटिकल्चर क्या है?

अंगूर के बारे में रोचक तथ्य

अंगूर के स्वास्थ्य लाभ

अंगूर के पौधे की जानकारी

अंगूर की खेती कैसे करें – अंगूर की उन्नत खेती

अंगूर की किस्मों

अंगूर की खेती के लिए मिट्टी की आवश्यकताएं और तैयारी

अंगूर का पौधा कैसे लगाएं

अंगूर प्रशिक्षण प्रणालियां और विधियां

बेल की छंटाई, पत्तियां हटाना और अंगूरों को कम करना

अंगूर की सिंचाई और जल प्रबंधन

अंगूर का उर्वरीकरण प्रबंधन

अंगूर की बेल के सामान्य कीड़े और बीमारियां

अंगूर की कटाई – अपने अंगूर के खेत की कटाई कब और कैसे करें

प्रति हेक्टेयर और एकड़ अंगूर की उपज

समकालीन विटीकल्चर में तकनीक का प्रयोग

क्या आपको अंगूर की खेती का अनुभव है? कृपया नीचे कमेंट में अपने अनुभव, विधियों और अभ्यासों के बारे में बताएं। आपके द्वारा जोड़ी गयी सभी सामग्रियों की जल्द ही हमारे कृषि विज्ञानियों द्वारा समीक्षा की जाएगी। स्वीकृत होने के बाद, इसे Wikifarmer.com पर डाल दिया जाएगा और इसके बाद यह दुनिया भर के हजारों नए और अनुभवी किसानों को प्रभावित करेगा।

यह लेख निम्नलिखित भाषाओं में भी उपलब्ध है: enEnglish esEspañol frFrançais arالعربية pt-brPortuguês deDeutsch ruРусский elΕλληνικά trTürkçe viTiếng Việt idIndonesia

Wikifarmer की संपादकीय टीम
Wikifarmer की संपादकीय टीम

Wikifarmer सबसे बड़ा ऑनलाइन कृषि पुस्तकालय है जो इसके प्रयोगकर्ताओं द्वारा निर्मित और अपडेट किया जाता है। यहाँ आप नया लेख जमा कर सकते हैं, पहले से मौजूद लेख को संपादित कर सकते हैं, छवियां और वीडियो जोड़ सकते हैं या सैकड़ों आधुनिक कृषि विकास मार्गदर्शकों की मुफ्त उपलब्धता का आनंद उठा सकते हैं। इस वेबसाइट पर प्रदान की जाने वाली किसी भी जानकारी के प्रयोग, मूल्यांकन, आकलन और उपयोगिता के संबंध में सारा उत्तरदायित्व प्रयोगकर्ता का होता है।

Follow Us

Wikifarmer सबसे बड़ा ऑनलाइन कृषि पुस्तकालय है जो इसके प्रयोगकर्ताओं द्वारा निर्मित और अपडेट किया जाता है। यहाँ आप नया लेख जमा कर सकते हैं, पहले से मौजूद लेख को संपादित कर सकते हैं, छवियां और वीडियो जोड़ सकते हैं या सैकड़ों आधुनिक कृषि विकास मार्गदर्शकों की मुफ्त उपलब्धता का आनंद उठा सकते हैं। इस वेबसाइट पर प्रदान की जाने वाली किसी भी जानकारी के प्रयोग, मूल्यांकन, आकलन और उपयोगिता के संबंध में सारा उत्तरदायित्व प्रयोगकर्ता का होता है।

FOLLOW US ON